मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, रोहतक : मां मैं 15 मिनट में आ रहा हूं। इसके बाद रिश्तेदार के घर मिलने के लिए चलेंगे। हत्या से करीब आधा घंटे पहले मनीष ने अपनी मां का फोन आने पर यह बात कही थी। इसके बाद आठ बजे परिजनों को सूचना मिली कि मनीष की किसी ने चाकू से गोदकर हत्या कर दी। हत्या के बाद उसके मोबाइल पर दोस्त का फोन आया, तब पुलिस को उसका नाम-पता मालूम हुआ।

दरअसल, जब मनीष शाम तक भी घर नहीं लौटा तब करीब सात बजे उसकी मां राधा ने मोबाइल पर फोन किया। उस समय तक मनीष सही-सलामत था। उसने अपनी मां को कहा था कि 15 मिनट में आ रहा हूं। इतना कहने के बाद उसने फोन काट दिया था। इसके बाद करीब साढ़े सात बजे वह खून से लथपथ हालत में पुलिस चौकी पर पहुंचा और वहीं गिर पड़ा। इससे लग रहा है कि मनीष पर सात और साढ़े सात बजे के बीच में ही हमला हुआ है। पुलिस चौकी के बाद पुलिसकर्मी उसे लेकर पहले सिविल अस्पताल में पहुंचे। जहां से डाक्टरों ने उसे पीजीआइ में रेफर कर दिया। पीजीआइ में पहुंचते ही डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। उस समय तक पुलिस को कोई जानकारी नहीं थी कि यह कौन और कहां का रहने वाला है। पुलिस उसके मोबाइल पर जानकारी जुटा रही थी कि तभी मनीष के अजय नाम के दोस्त का मोबाइल पर कॉल आया। पुलिस ने फोन रिसीव किया। तब उसे पूरे मामले की जानकारी दी गई। इसके बाद ही पुलिस को उसका नाम-पता चला और परिजनों को सूचना दी। प्यार का पहला अक्षर ही अधूरा होता है..

मनीष फेसबुक पर भी एक्टिव रहता था। उसने एक फरवरी को अपनी प्रोफाइल फोटो बदली थी। उसकी फेसबुक आइडी पर सैड स्टेट्स वाला फोटो लगा हुआ था। इसमें लिखा है कि प्यार कहा किसी का पूरा होता है प्यार का तो पहला अक्षर ही अधूरा होता है..। इसके अलावा उसने कुछ समय पहले पोस्ट की थी कि बादशाह नहीं टाइगर हूं मैं, इसीलिए लोग इज्जत से नहीं मेरी इजाजत से मिलते हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप