जागरण संवाददाता, रोहतक : विमुक्त घुमंतू जनजाति कल्याण संघ के कार्यकर्ता संयुक्त रूप से शुक्रवार को जिला उपायुक्त को राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। जिला सचिव ईश्वर ¨सह ने बताया कि किसी भी समूह द्वारा अपराध किए जाने पर जातिसूचक शब्दों का प्रयोग न लाया जाए। हरियाणा के मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद भी पुलिस प्रशासन ने जातिसूचक शब्दों को आज भी लिखना नहीं छोड़ा है। संघ का मानना है कि जब तक देशभर से 1952 हैब्चुअल ऑफेंस एक्ट समाप्त नहीं होगा तब तक हरियाणा में भी यह प्रभावहीन ही रहेगा। ज्ञापन के माध्यम से कल्याण संघ महायोगी गुरु गोरखनाथ महाराज के सम्मान की लड़ाई लड़ते हुए किसी भी गलत कार्य, धोखाधड़ी, विश्वासघात व घपला आदि कार्यों के लिए गोरखधंधा शब्द के प्रचलन पर रोक लगाए। क्योंकि इससे गुरु गोरखनाथ महाराज में श्रद्धा रखने वाले करोड़ों लोगों की भावना को ठेस पहुंचती है। इस मौके पर ईश्वर ¨सह बिडू जिला सचिव अनुसूचित जाति रोहतक, डा. राजेंद्र ¨सह नायक जिला प्रधान नायक समाज, उमेद, जगबहादुर, अजीत जोगी, सुनील शेरगीर, अर¨वद, मदन, नरेश, धर्मपाल, सतबीर आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस