जागरण संवाददाता, रोहतक : नेशनल ओपन स्कूल परीक्षाओं में कई दिनों से मिल रही शिकायतों पर जिला उपायुक्त ने शुक्रवार को संज्ञान लिया। उन्होंने शहर में बने अलग-अलग परीक्षा केंद्रों का औचक निरीक्षण किया तो वहां दूसरे की जगह परीक्षा देने पहुंचे चार विद्यार्थियों को मौके पर ही पकड़ा। उन्होंने सभी के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने के निर्देश भी दिए है।

उपायुक्त आरएस वर्मा ने आज जिला में चल रहे ओपन स्कूल मैट्रिक परीक्षाओं में कई दिनों से मिल रही शिकायतों पर संज्ञान लेते हुए परीक्षा केंद्रों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान कुछ परीक्षा केंद्रों पर भारी खामियां सामने आई। उपायुक्त ने चार ऐसे विद्यार्थियों को मौके पर पकड़ा जो किसी अन्य परीक्षार्थी की जगह परीक्षा दे रहे थे। जिनमें से तीन छात्र हरकिशन मेमोरियल स्कूल व एक छात्र महेंद्रा स्कूल के परीक्षा सेंटर पर पकड़े गए हैं। जिन पर कड़ा संज्ञान लेते हुए उपायुक्त ने मौके पर ही चारों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। जिला में ऐसे पांच परीक्षा बनाए गए केंद्र हैं जहां ओपन स्कूल की परीक्षाएं चल रही है। शिकायतों पर संज्ञान लेते हुए जिला शिक्षा अधिकारी को लगातार नकल पर अंकुश लगाने के लिए जिम्मेवारी भी सौंपी गई है।

बता दें कि उपायुक्त को मिली पिछली शिकायतों के आधार पर और शुक्रवार को किए गए औचक निरीक्षण से यह सामने आया है कि इस कार्य के पीछे एक पूरा रैकेट कार्य कर रहा है। डीसी ने इस संबंध में गंभीरता दिखाते हुए कहा कि मामले में कड़ा संज्ञान लिया जाएगा और परीक्षा बोर्ड को संबंधित स्कूलों के परीक्षा केंद्र तोड़ने के लिए जोरदार सिफारिश भी की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले में और भी कई लोग शामिल हो सकते हैं। बोर्ड से कड़ी कार्रवाई की सिफारिश :

उपायुक्त ने कहा कि इस मामले में ओपन बोर्ड के ऑब्जर्वर, संबंधित स्कूलों के संचालकों के खिलाफ भी परीक्षा बोर्ड को कड़ी कार्यवाही के लिए लिखा जाएगा। उन्होंने कहा कि होनहार छात्रों के भविष्य को देखते हुए इस तरह की घटनाएं दोबारा न हो इसके लिए प्रशासन की ओर से ठोस प्रबंध किए जाएंगे। इसके लिए जिला शिक्षा अधिकारी व अन्य अधिकारियों की टीम बनाकर लगातार निगरानी की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस