जागरण संवाददाता, रोहतक :

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुज्जर को 12 सूत्रीय मांगपत्र सौंपा। प्रदेश मंत्री सुमित जागलान ने बताया कि 9571 विद्यार्थियों से फोन पर संपर्क कर शिक्षा से जुड़ी समस्याएं जानी व समाधान के लिए सुझाव मांगे गए। विद्यार्थियों से हुई बातचीत के आधार पर 12 सूत्रीय मांग पत्र तैयार किया गया। कोरोना वायरस महामारी के चलते शिक्षा के क्षेत्र को बहुत नुकसान हुआ है। ऐसे में एबीवीपी ने विद्यार्थियों से संपर्क अभियान चलाया था।

यह है मांग पत्र में सुझाव :

1. ऑफलाइन और ऑनलाइन परीक्षाओं की बजाए कैरी ओवर, ओपन बुक परीक्षा, प्रोजेक्ट रिर्पोट तैयार करना, सतत विद्यार्थी मूल्यांकन, इन हाउस परीक्षा आदि पद्धतियां अपनाई जाएं।

2. विवि में परीक्षाओं से संबंधित असमंजस स्पष्ट किया जाए एवं नया अकादमिक सत्र कैलेंडर जारी किया जाए।

3. गैर तकनीकी कक्षाओं में सेमेस्टर प्रणाली को समाप्त कर वार्षिक प्रणाली अपनाई जाए।

4. परीक्षाओं से एक माह पहले डेटशीट जारी हो।

5. विद्यार्थियों के लिए बीमा नीति लागू की जाए।

6. विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए आयु एवं शैक्षणिक योग्यता में छूट दी जाए।

7. सामाजिक एवं आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थियों का एक वर्ष का शुल्क माफ किया जाए।

8. कमजोर इंटरनेट कनेक्टिविटी वाले स्थानों पर डाक के माध्यम से पाठ्य सामग्री उपलब्ध कराई जाए।

9. सार्वजनिक परिवहन उपलब्ध होने के बाद ही परीक्षा कराई जाएं।

10. अगले सत्र के लिए छात्रवृति बढ़ाई जाए।

11. प्रदेश के सभी शिक्षण संस्थानों को अच्छे से सैनिटाइज किया जाए।

12. खेलकूद एवं सांस्कृतिक गतिविधियों को कराने के लिए विकल्प तलाशे जाएं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस