जागरण संवाददाता, रोहतक : शहीद भगत सिंह पार्किंग एक बार फिर से शुरू हो गई है। पहले दिन किला रोड बाजार की मुख्य सड़कों से वाहनों की भीड़ कम हुई। हालांकि सभी वाहन पूरी तरह से सड़कों से नहीं हटे। व्यापारियों ने दावा किया है कि निशुल्क पार्किग का संचालन सौ फीसद सफल रहेगा।

पार्किग संचालन के पहले दिन तीन गार्ड रखे गए। यह मुख्य सड़क से वाहनों को पार्किग स्थल तक लेकर पहुंचने वालों की मदद के लिए तैनात किए गए। रजिस्टर में वाहनों का ब्योरा तैयार हो रहा है।

बता दें कि 400 दो पहिया वाहनों की क्षमता वाली बेसमेंट वाली पार्किग में पहले दिन सौ से अधिक वाहन खड़े हुए। शाम तीन बजे भी यहां करीब 50 वाहन खड़े थे। किला रोड के व्यापारियों और नगर निगम के अधिकारियों की आपसी सहमति के बाद पार्किग के संचालन का कार्य शुरू हो गया। किला रोड, बड़ा बाजार, दिल्ली गेट बाजार में जाम और अतिक्रमण से निजात दिलाने पार्किग का संचालन खुद व्यापारी कर रहे हैं। नगर निगम प्रशासन ने मुफ्त में पार्किंग संचालित करने के लिए व्यापारियों को कार्य सौंपा है। फिलहाल सभी बाजारों के व्यापारी चंदा इकट्ठा करके खर्चे पूरे करेंगे।

बीते साल अक्टूबर में भी एक माह हुआ था पार्किंग का संचालन

पार्किग का इससे पहले पहली बार बीते साल अक्टूबर में संचालन हुआ था। करीब एक-डेढ़ माह ही पार्किग का संचालन हुआ था। पदाधिकारियों ने दावा किया था कि प्रति माह आठ-दस हजार रुपये तक के ही वाहन खड़े हो सके थे। जबकि प्रतिमाह करीब 90 हजार रुपये का खर्चा हो गया। भारी नुकसान का हवाला देते हुए पदाधिकारियों ने पार्किग संचालन से कदम पीछे खींच लिए थे। करीब तीन-चार साल पहले ही इमारत निर्मित हो चुकी है। वर्जन

शहीद भगत सिंह पार्किग का संचालन शुरू करा दिया है। पहले दिन मुख्य सड़क पर कम वाहन खड़े हुए। सभी व्यापारियों और दुकानदार के सहयोग से भविष्य में मुख्य सड़क के बजाय पार्किग स्थल में ही वाहन खड़े कराए जाएंगे।

हैप्पी अनेजा, प्रधान, किला रोड बाजार एसोसिएशन

--

पार्किग का संचालन सौ फीसद सफल रहेगा। अभी पहला दिन था। दो-चार दिन पार्किग का संचालन कराने के बाद सभी त्रुटियों को दूर करेंगे। जाम से परेशान सभी व्यापारी सौ फीसद सहयोग को तैयार हैं।

बिट्टू सचदेवा, प्रधान, किला रोड बाजार एसोसिएशन

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस