रतन चंदेल, रोहतक

दिग्गज क्रिकेट राजेंद्र गोयल न केवल बेहतरी खिलाड़ी रहे हैं बल्कि उनकी पारखी नजर भी कमाल की थी। इसकी बानगी सन 2000 में उस वक्त देखने को मिली जब रोहतक में दिल्ली और हरियाणा के बीच कूच विहार ट्राफी के लिए मैच खेला गया। वैश्य कालेज के मैदान पर यह क्रिकेट मैच खेला गया। टीम इंडिया बेहतरीन स्पिनर रहे अमित मिश्रा का उस वक्त वह पहला ही मैच था। इस मैच में लेग स्पिनर अमित मिश्रा की गेंदबाजी देख राजेंद्र गोयल ने उसी समय अमित से कहा था कि तू इंडियन मैटीरियल है, एक दिन इंडिया की टीम में खेलेगा। अमित मिश्रा ने दैनिक जागरण संवाददाता से फोन पर यह बातें सांझा की।

बकौल अमित राजेंद्र गोयल के इन शब्दों ने उनमें जोश भर दिया और उस मैच में उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए 10 विकेट लिए। अमित ने इसके बाद घरेलू क्रिकेट में बेहतरीन प्रदर्शन किया। वे हरियाणा की और से भी रणजी मैच खेले हैं। करीब आठ साल की मेहनत के बाद 2008 में अमित ने मोहाली में हुए मैच में भारतीय टेस्ट टीम में डेब्यू किया। जहां पर उनकी मुलाकात एक बार फिर से दिग्गज क्रिकेटर राजेंद्र गोयल से हुई। अमित मिश्रा को भारतीय टीम में चयनित होने पर राजेंद्र गोयल ने खुशी व्यक्त की। इसके साथ ही उन्होंने अमित से यह भी कहा कि टीम इंडिया में चयनित होना ही काफी नहीं है। बल्कि यहीं से तुम्हारी वास्तविक शुरुआत हुई है। उन्होंने नसीहत देते हुए कहा कि हमेशा अच्छा प्रदर्शन करना लेकिन कामयाबी को कभी सिर पर हावी मत होने देना। राजेंद्र गोयल के ये शब्द अमित आज तक नहीं भूले हैं।

अमित का कहना है कि राजेंद्र गोयल का जीवन क्रिकेट को समर्पित रहा है। वे सभी खिलाड़ियों का बच्चों की तरह खास ख्याल रखते थे। न उनके केवल उनके शारीरिक स्वास्थ्य बल्कि मानसिक स्वास्थ्य पर भी बल देते थे। राजेंद्र गोयल के निधन से क्रिकेट जगत का अपूर्णीय क्षति हुई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस