जागरण संवाददाता, रेवाड़ी: भाड़ावास फाटक पर चल रहे ओवरब्रिज के निर्माण कार्य के दौरान सीवर की मुख्य लाइन क्षतिग्रस्त हो गई है। मुख्य लाइन क्षतिग्रस्त होने के कारण कई कालोनियों में सीवरेज व्यवस्था फेल हो गई है, जिसके चलते कालोनियों में सीवर ओवरफ्लो हो रहे हैं।

शनिवार को जहां हंसनगर कालोनी की गली नंबर पांच सीवर ओवरफ्लो की समस्या बनी हुई थी, वहीं इससे पूर्व भी कालोनी की अन्य गलियों में यह समस्या हो चुकी है। गलियों में जलभराव के कारण लोगों को आवागमन में परेशानी का सामना पड़ रहा है। सीवर लाइन को अगर समय रहते ठीक नहीं कराया गया तो आने वाले दिनों में यह समस्या बेहद विकट हो जाएगी। स्थानीय लोग जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के पास शिकायत करने के साथ ही बार-बार फोन घुमा रहे हैं, लेकिन उन्हें कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिल पा रहा है।

जनस्वास्थ्य विभाग की ओर से एचएसआरडीसी को सीवर लाइन के लिए अलग से व्यवस्था कराने के लिए पत्राचार भी किया गया है, लेकिन अभी तक कोई समाधान नहीं हुआ है। बता दें कि एचएसआरडीसी की ओर से भाड़ावास रोड पर पिछले कई दिनों से ओवरब्रिज का निर्माण कार्य किया जा रहा है, जिसके चलते यहां पर खोदाई का कार्य भी किया जा रहा है। इससे सीवर की मुख्य लाइन क्षतिग्रस्त हो गई है।

शीघ्र समाधान नहीं हुआ तो बिगड़ेंगे हालात: सीवर लाइन क्षतिग्रस्त होने के कारण हंसनगर, आदर्श नगर सहित आसपास की कालोनियों में सीवर ओवरफ्लो की समस्या बढ़ गई है। अगर संबंधित विभाग की ओर से जल्द इसका समाधान नहीं किया जाता है तो हालात और भी खराब हो सकते हैं। जनस्वास्थ्य विभाग की ओर से कालोनियों में हो रही सीवर ओवरफ्लो की समस्या को देखते हुए पानी को मोटर के माध्यम से भाड़ावास फाटक के निकट खाली पड़ी जमीन पर छोड़ा जा रहा है, लेकिन यह नाकाफी साबित हो रहा है। इसके अलावा जनस्वास्थ्य विभाग की ओर से एचएसआरडीसी के अधिकारियों से पत्राचार किया गया है तथा सीवर के पानी की निकासी के लिए अलग से व्यवस्था करने के लिए एस्टीमेट भी बनाकर भेजा गया है। करीब दस दिन के बाद भी एचएसआरडीसी की ओर से कोई सुनवाई नहीं की गई है। ऐसे में कालोनी निवासियों की परेशानियां बढ़ती जा रही हैं। सीवर की मुख्य लाइन क्षतिग्रस्त हो गई है। मैंने इस बाबत जनस्वास्थ्य विभाग व एचएसआरडीसी के अधिकारियों से बातचीत की है। शीघ्र ही समस्या का समाधान निकाला जाएगा।

-भूपेंद्र गुप्ता, नगर पार्षद भाड़ावास रोड पर खोदाई के कारण सीवर की मुख्य लाइन क्षतिग्रस्त हो गई है। इसके कारण कालोनियों में यह समस्या आ रही है। हमने दस दिन पूर्व एचएसआरडीसी के अधिकारियों को सीवर के पानी निकासी की अतिरिक्त व्यवस्था के लिए एस्टीमेट बनाकर भेजा हुआ है। वहां से बजट मिलते ही सीवर के पानी की निकासी दूसरी जगह पर कर दी जाएगी। फिलहाल मोटर लगाकर पानी को पास में खाली पड़ी जगह पर छोड़ा जा रहा है।

- दीपक कुमार, कनिष्ठ अभियंता जनस्वास्थ्य विभाग

Edited By: Jagran