जागरण संवाददाता, रेवाड़ी : सेना भर्ती के लिए आवेदन करने के बाद प्रवेश पत्र नहीं मिलने से निराश युवाओं का कहना है कि उन्होंने सेना भर्ती के लिए खूब मेहनत की है। उन्हें किसी प्रकार अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिलना चाहिए। राव तुलाराम स्टेडियम में 20 जुलाई से आरंभ होने वाली सेना भर्ती में रेवाड़ी के साथ महेंद्रगढ़, चरखी दादरी व भिवानी के युवा हिस्सा लेंगे। इसमें करीब 35 हजार युवाओं के हिस्सा लेने की उम्मीद है। जिन युवाओं का प्रवेश पत्र जारी नहीं हो पाया है, उन्हें अगली भर्ती के लिए इंतजार करना होगा। मायूस युवाओं ने अधिकारियों से वैकल्पिक व्यवस्था बनाकर प्रवेश पत्र जारी कर उन्हें भर्ती में शामिल होने की अनुमति देने की मांग की है।

-------------

सेना भर्ती के लिए खूब मेहनत की है। अब प्रवेश पत्र जारी होने से निराश हूं। आवेदन करते वक्त काफी रुपये खर्च किए हैं। पिछली बार वैकल्पिक व्यवस्था के तहत भर्ती स्थल पर ही प्रवेश पत्र जारी किए गए थे। इस बार भी यह सुविधा देना चाहिए ताकि मुझ जैसे अन्य युवा भर्ती में शामिल हो सकें।

श्यामलाल, महेंद्रगढ़

------------------

मेरे साथ आवेदन करने वाले अन्य साथियों को प्रवेश पत्र मिल चुके हैं लेकिन मेरा नहीं आया। आवेदन के दौरान काफी रुपये खर्च हुए हैं। पिछले करीब एक माह से अधिक समय से सेना भर्ती के लिए खूब अभ्यास किया है। ऐसे में अब भर्ती में शामिल नहीं होने से पूरी मेहनत पर पानी फिर गया है। अधिकारियों को युवाओं को एक अवसर दिया जाना चाहिए।

अरुण, भिवानी

-----------

मुझे प्रवेश पत्र जारी होने की उम्मीद थी लेकिन अन्य साथियों के पत्र मिल गए हैं मुझे नहीं मिला। मैं पिछले पंद्रह बीस दिन से राव तुलाराम स्टेडियम में यहां अभ्यास करने आता रहा अब प्रवेश पत्र के अभाव में भर्ती में हिस्सा नहीं ले पा रहा हूं। अधिकारियों को ऑनलाइन के साथ ऑफलाइन प्रवेश पत्र जारी करने की सुविधा देना चाहिए।

दीपक, भिवानी

------------

आवेदन रद हुआ है या नहीं इसकी जानकारी मिलनी चाहिए थी। शारीरिक और मानसिक रूप से भर्ती के लिए तैयार था। सुबह से अधिकारियों से मिलने का इंतजार कर रहे हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। आवेदन रद होने का कारण पता नहीं चल पा रहा है। ऑनलाइन आवेदन किया था।

विकास, भिवानी

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस