जागरण संवाददाता, रेवाड़ी : इन दिनों गर्मी अपने पूरे शबाब पर है। मंगलवार इस मौसम का सबसे गर्म दिन रहा। सूरज मानो आग बरस रहा था। पंखे, कूलर, एसी की हवा भी गर्मी के आगे बेअसर हो गईं। पिछले तीन दिनों से गर्मी के तेवर काफी तीखे हैं। मंगलवार को अधिकतम तापमान 43.5 व न्यूनतम 27 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। सोमवार को अधिकतम 43 व न्यूनतम 26 डिग्री सेल्सियस था। मौसम विभाग के अनुसार अभी गर्मी से राहत पाने के आसार नहीं है। इस माह में यह दूसरी बार सर्वाधिक तापमान है। इससे पहले 23 मई को अधिकतम तापमान 43.5 व न्यूनतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस था। रविवार को अधिकतम तापमान 40.5 व न्यूनतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस था। उबला हुआ जैसा है टंकियों में भरा पानी :

प्रचंड गर्मी के चलते घर व प्रतिष्ठानों की दीवारें जहां तप रही हैं वहीं टंकियों में भरा पानी भी उबलने लगा है। दिन में तो टंकी का पानी छू भी नहीं सकते। एसी और कूलर की हवा भी ठंडक देने में नाकाम हैं। शुष्क हवा चलने से दिन में बाजार और व्यस्त रहने वाले स्थानों पर भी सन्नाटा पसरा रहा। पिछले साल था 44 डिग्री सेल्सियस तापमान :

पिछले साल मई में अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच चुका था। पिछले साल 27 मई को अधिकतम तापमान 44 व न्यूनतम 25.4 डिग्री सेल्सियस था। पिछले साल 28 मई को अधिकतम तापमान 43 डिग्री व न्यूनतम 23.8 डिग्री सेल्सियस था। 29 मई को यह बढ़कर 45.5 डिग्री सेल्सियस हो गया। 26 मई को 44.5, 25 मई को 43.8 डिग्री सेल्सियस रहा। बीमार हो रहे लोग:

लगातार पड़ रही गर्मी के कारण लोग बीमार हो रहे हैं। स्कूल जाने वाले छोटे बच्चों को दोपहर को घर पहुंचना काफी मुश्किल हो रहा है। अधिकांश निजी स्कूलों ने ग्रीष्म अवकाश कर दिए हैं लेकिन सरकारी और कुछ निजी स्कूल अभी भी खुले हैं। एक जून से ग्रीष्म अवकाश होने हैं। लगातार पड़ रही गर्मी के कारण दोपहरी में तेज धूप के बीच घर पहुंचने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। खूब पीएं पानी, धूप में निकलने से बचें:

सुबह से ही पड़ रही तेज गर्मी का लोगों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। बच्चों के साथ वृद्ध और युवा भी लू की चपेट में आने लगे हैं। उल्टी, दस्त, वायरल बुखार आदि से पीड़ित मरीज अस्पतालों में पहुंच रहे हैं। गढ़ी बोलनी रोड स्थित मार्स अस्पताल के निदेशक व हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. अभय कुमार ने लोगों को अधिक से अधिक पेय पदार्थ सेवन करने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि बहुत जरूरी होने पर दिन में बाहर निकलना चाहिए। हर 15 से आधे घंटे के अंतराल पर स्वच्छ पानी पीना चाहिए। बाजार में खुले में बिकने वाला खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए। किसी प्रकार की दिक्कत आने पर चिकित्सक के परामर्श के बाद ही दवा का सेवन करना चाहिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस