जागरण संवाददाता, रेवाड़ी : आंध्र प्रदेश की एक यूनिवर्सिटी के नाम पर फर्जी डिग्री बनवाने के मामले में क्राइम इंवेस्टिगेशन एजेंसी (सीआइए) धारूहेड़ा ने एक आरोपित को अदालत से पूछताछ के लिए तीन दिन के रिमांड पर लिया है। रिमांड पर लिया गया आरोपित महेंद्रगढ़ के नीमड़ी के नीचे निवासी हेमंत खुराना है। आरोपित वर्तमान में किसी अन्य मामले में नारनौल जेल में बंद था तथा पुलिस उसे सोमवार को प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आई है। इस मामले में एक आरोपित को पुलिस पहले गिरफ्तार कर चुकी है।

सीआइए धारूहेड़ा प्रभारी कबूल सिंह ने बताया कि 26 सितंबर 2016 को शहर के अहीर कालेज में एक प्राध्यापक द्वारा फर्जी तरीके से दक्षिण भारत के एक विश्वविद्यालय से पीएचडी व अन्य विषयों की डिग्री दिलाने के मामले में शहर थाना पुलिस में प्राथमिकी दर्ज हुई थी। कनीना निवासी डा. गजेंद्र सिंह के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया था। प्राथमिकी दर्ज करने से पहले लोकल कमेटी गठित कर कालेज प्रबंधन द्वारा जांच भी कराई गई थी। शिकायत में कहा गया था कि दक्षिण भारत के एक विश्वविद्यालय के नाम से लोगों को फर्जी डिग्री दी जा रही है। कालेज प्रबंधन के तत्कालीन चेययमैन एवं पूर्व विधायक राव यादुवेंद्र सिंह द्वारा पुलिस को शिकायत दी गई थी तथा धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच शुरू की गई थी। एक आरोपित गजेंद्र की इस मामले में पहले गिरफ्तारी हो चुकी है। इस मामले में आरोपित हेमंत खुराना वर्तमान में नारनौल जेल में बंद था तथा उसे प्रोडक्शन वारंट पर लेकर अदालत से तीन दिन के रिमांड पर लिया गया है। आरोपितों द्वारा आंध्र प्रदेश की एक यूनिवर्सिटी के नाम पर लोगों को पीएचडी की फर्जी डिग्री दी गई थी। आरोपित ने महेंद्रगढ़ में गणनायक कल्चर एजुकेशन के नाम से सेंटर भी खोला हुआ था। अभी आरोपित से पूछताछ की जा रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस