जागरण संवाददाता, रेवाड़ी : हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड पृथक भंडारण के प्रस्तावित विस्तार के लिए पर्यावरण स्वीकृति के लिए करनावास, भिवाड़ी व कमालपुर गांवो के लोगों की सार्वजनिक सुनवाई हुई। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड करनावास टर्मिनल परिसर में हुई बैठक की अध्यक्षता उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने की, जिसमें ग्रामीणों ने अपनी समस्याएं सुने।

उपायुक्त ने आइओसी अधिकारियों से कहा कि टर्मिनल के समीपवर्ती गांव को इसका कोई नुकसान नहीं होना चाहिए। पर्यावरण हर हाल में सुरक्षित रहना चाहिए। ध्वनि प्रदूषण, वायु प्रदूषण व जल प्रदूषण सभी की समय-समय पर जांच हो। टर्मिनल के बाहर जो टैंकर की पार्किंग के लिए तुरंत प्रभाव से कार्य करें। अग्निशमन यंत्र व जल भंडारण का पूरा प्रबंध होना चाहिए। उपायुक्त ने कहा कि डीजी सेट की समय-समय पर स्टॉक मोनिट¨रग हर तिमाही में एक बार, प्लांट के आस-पास के स्थानों पर भू-जल के नमूने हर मौसम में, ठोस अपशिष्ट उत्पादन निगरानी प्रतिदिन हो। उन्होंने कहा कि टर्मिनल के समीप जो गांव है उसके विकास के लिए सीएसआर के तहत राशि खर्च करें। उपायुक्त ने भिवाडी, कमालपुर व करनावास गांव में कौशल विकास केंद्र खोलने की घोषणा भी की।

उल्लेखनीय है कि इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड आईसोलेटेड स्टोरेज के लिए प्रस्तावित 60 हजार केएल एचएसडी (डीजल), 9 हजार केएमएस (पेट्रोल) व 140 केएस बायोडीजल के भंडारण का विस्तार करने का प्रस्ताव है। इस समय 11 टैंक है तथा 6 टैंक लगाए जाएंगे। वर्तमान में पेट्रोलियम उत्पाद पानीपत रिफाइनरी के माध्यम से प्राप्त किया जाता है। ग्रामीणों ने रखी समस्याएं

गांव कमालपुर गांव के राजेन्द्र शर्मा ने बताया कि आईओसीएल टर्मिनल ने अपनी तरफ सड़क को ऊंचा कर दिया है तथा बरसात में पानी रास्ते में भर जाता है। भवाड़ी सरपंच सतीश कुमार ने बताया कि अतीत में इनका सेफ्टी टैंक फट गया था तथा गांव का एक बच्चा इससे पीड़ित हुआ।। कमालपुर के नंबरदार रामपाल ने कहा कि प्रदूषण रोकने के लिए कड़े कदम उठाए जाए ताकि समीपवर्ती गांव के लोग बीमारी की चपेट से बचे रहे। उपायुक्त ने समस्याओं का समाधान करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर एसडीएम जितेन्द्र कुमार, प्रदूषण विभाग के क्षेत्रीय अधिकारी कुलदीप, तहसीलदार मनमोहन ¨सह, संयुक्त निदेशक उद्योग विरेंद्र ¨सह, कार्यकारी अधिकारी नगरपरिषद मनोज कुमार, जिला नगर योजनाकार अनिल डबास व आईओसीएल के अधिकारियों व कर्मचारियों सहित आसपास के गांवों के सरपंच व ग्रामीण मौजूद थे।

Posted By: Jagran