जागरण संवाददाता, रेवाड़ी : उपायुक्त यशेंद्र सिंह ने बुधवार को अधिकारियों की टीम को साथ लेकर बरसाती पानी की निकासी व्यवस्था का जायजा लिया। उपायुक्त ने कमालपुर, बिठवाना होते हुए रेवाड़ी ड्रेन सहित अन्य जलनिकासी नालों का निरीक्षण किया। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जलभराव व बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए की जा रही तैयारियों में किसी प्रकार की ढि़लाई न बरतें। उपायुक्त ने स्पष्ट कर दिया कि 10 जून तक नालों व ड्रेन की सफाई करा दी जाए वह 11 जून को दोबारा से निरीक्षण करेंगे। अगर 11 जून को निरीक्षण के दौरान खामियां मिली तो अधिकारियों पर निश्चित तौर पर कार्रवाई होगी। मानसून को लेकर प्रबंध में जुटा प्रशासन मानसून को देखते हुए जिला प्रशासन भी सक्रिय हो गया है। बीते दिनों हुई बारिश के बाद शहर में भी जलनिकासी व्यवस्था चरमराई हुई नजर आई। ऐसे में आगे मानसून सीजन में दिक्कत न आए इसके लिए उपायुक्त खुद पूरी टीम के साथ निकले। उपायुक्त ने सिचाई विभाग को अन्य विभागों से संबंधित अधिकारियों को कहा कि वे आपस में तालमेल बनाकर जरूरी कदम उठाए तथा निकासी व्यवस्था को बेहतर बनाएं। यह सुनिश्चित करें कि जिला के किसी भी क्षेत्र में बरसाती पानी का ठहराव व भराव न हो। लोगों को बरसात के दिनों में परेशानी न हो, इसके लिए नालों व नालियों आदि की सफाई व्यवस्था दुरूस्त करवाएं। इस कार्य में ढिलाई सहन नहीं होगी। मशीन नहीं तो मनरेगा कामगारों से कराएं काम उपायुक्त ने अधिकारियों को स्पष्ट किया कि सफाई कार्य के लिए मशीन नहीं है तो मनरेगा कामगारों से सफाई का कार्य करवाएं, लेकिन कार्य मे कोताही व लापरवारी बर्दाश्त नहीं होगी। डीसी ने निरीक्षण के दौरान संबंधित अधिकारियों को जल निकासी के लिए पंप सेट, किश्तियां, मिट्टी के कट्टे, बल्लियां इत्यादि के प्रबंध सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने जिला राजस्व एवं आपदा प्रबंधन अधिकारी को किसी भी आपातकाल स्थिति से निपटने के लिए कंट्रोल रूम स्थापित करने के आदेश दिए। इस दौरान जिला आपदा प्रबंधन एवं डीआरओ विजय यादव सहित सिचाई, एचएसवीपी व अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस