रेवाड़ी [महेश कुमार वैद्य]। Coronavirus LockDown: प्रदेश की खाप पंचायतों को लेकर भले ही यदा-कदा कोई न कोई विवाद उठता रहा है, मगर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) को कोरोना संकट के समय किया जा रहा खाप का काम भा गया है। संघ के आंतरिक विचार-विमर्श के दौरान सोनीपत जिले की दहिया व नरवाल खाप के काम की विशेष रूप से सराहना की गई है। यहां यह बता दें कि कुछ अन्य मुद्दों पर भी पूर्व में आरएसएस के वरिष्ठ स्वयंसेवक भी खापों के उस दृष्टिकोण से सहमति जता चुके हैं, जिन पर एक बड़ा वर्ग नाक-भौं सिकोड़ता रहा है।

आरएसएस ने कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए पैदा हुई लॉकडाउन की परिस्थितियों में कई सेवा प्रकल्प हाथ में लिए हुए हैं। संघ कई संस्थाओं के काम पर बारीक नजर रखे हुए हैं। संघ ने दहिया व नरवाल खाप के अन्नदान के काम को अद्भुत और माना है। संघ के अनुसार इन दोनों खापों ने सोनीपत जिले में हजारों जरूरतमंद लोगों के लिए अनाज व भोजन की व्यवस्था इस ढंग से की है कि किसी को सरकार की ओर देखने की जरूरत ही नहीं पड़ी। आंतरिक चर्चा में सोनीपत जिले में हुए खाप पंचायतों के कामों की सराहना करते हुए संघ के एक वरिष्ठ

पदाधिकारी ने कहा कि दोनों खापों ने अधिकारियों को कह दिया था कि प्रशासन सोनीपत जिले की चिंता छोड़ दे। प्रदेश की अन्य खापों से भी संघ सकारात्मक उम्मीद कर रहा है।

सुभाष आहूजा (प्रांत कार्यवाह, आरएसएस) का कहना है कि कोरोना का संकट साधारण नहीं है। संकट के इस दौर में अगर कुछ खाप पंचायतें बेहतर व प्रेरक काम कर रही है तो उसकी तारीफ होनी चाहिए। मुझे उम्मीद है कि इस संकट से सब मिलकर पार पा लेंगे। संकट के इस दौर में सरकार को उचित सुझाव देना और सहयोग करना सभी का कर्तव्य है। संघ भी यथा संभव अपना योगदान दे रहा है। 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस