जागरण संवाददाता, रेवाड़ी : पंचकुला, करनाल, यमुनानगर के युवाओं का सेंटर रेवाड़ी में। पारदर्शिता के चक्कर में परीक्षार्थियों को इतनी दूर सेंटर दे दिया गया कि वे परीक्षा देने ही नहीं पहुंचे। नायब तहसीलदार की परीक्षा में ऐसा ही कुछ हुआ। जिले में 50 प्रतिशत भी युवा परीक्षा देने के लिए नहीं पहुंचे। नायब तहसीलदार पद के लिए आयोजित लिखित परीक्षा में जिले में 10, 296 अभ्यर्थियों का पंजीकरण था, लेकिन रविवार को 4648 परीक्षार्थियों ने लिखित परीक्षा दी। यानि 5648 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। पंचकुला, करनाल व यमुनानगर जिले के युवाओं के लिए 300 से अधिक किमी दूर रेवाड़ी आकर परीक्षा देना किसी सजा से कम नहीं था। इसी तरह रेवाड़ी के युवाओं को अंबाला व पंचकुला सेंटर दे दिए गए। कड़े व कान की बालियां तक उतरवाई

दूर दराज के जिलों के परीक्षार्थियों के लिए जिले में बनाए परीक्षा केंद्रों में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए थे। बड़ी तादाद में महिलाओं ने भी नायब तहसीलदार की परीक्षा दी। सुरक्षा के मद्देनजर महिलाओं के नाक की लौंग व कांटे, कड़े, कान की बालियां, अंगूठियां, हेयर बैंड आदि भी उतारवाए गए थे। यहां तक पानी की बोतल भी साथ लेकर जाने की मनाही थी। पुरुष अभ्यर्थियों से भी रुमाल, बेल्ट, चाबी के छल्ले, पर्स बाहर ही रखवा लिए गए। परीक्षा कक्ष के बाहर मोबाइल जैमर लगाए हुए थे। कोई एक दिन पहले पहुंचा तो कोई रविवार सुबह :

सुबह दस बजे से आरंभ हुई परीक्षा के लिए पंचकुला, करनाल, यमुनानगर आदि जिलों के काफी संख्या में अभ्यर्थी शनिवार शाम को ही पहुंच गए थे। कुछ अपनी रिश्तेदारियों में तो कुछ ने किराये पर होटल का कमरा लिया। हिसार, सिरसा, महेंद्रगढ़ आदि जिलों के अभ्यर्थी रविवार सुबह ही पहुंचे। अधिकारी करते रहे परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण:

परीक्षा के दौरान किसी प्रकार की अनियमितता को रोकने के लिए जिला प्रशासन के अधिकारी परीक्षा केंद्रों का लगातार निरीक्षण करते रहे। उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा और पुलिस अधीक्षक राहुल शर्मा ने आरपीएस स्कूल, ऋषि पब्लिक स्कूल, माउंट लिट्रा जी पब्लिक स्कूल, सूरज स्कूल में बनाये गए परीक्षा केंद्रों का दौरा किया। वहीं अतिरिक्त उपायुक्त प्रदीप दहिया ने माता राज कौर व सनग्लो स्कूल में बनाये गए परीक्षा केंद्रों का दौरा किया। छह जोनल अधिकारी किए थे नियुक्त:

उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने बताया कि जिला में इस परीक्षा के लिए 13 लोकेशन पर 33 परीक्षा केंद्र बनाये गये थे। परीक्षा के लिए जिला राजस्व अधिकारी, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी, कार्यकारी अधिकारी नगरपरिषद, उप-आबकारी एवं कराधान आयुक्त, संपदा अधिकारी, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण व सहायक श्रम आयुक्त आदि छह जोनल अधिकारी नियुक्त किये गये थे। उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा की नियुक्ति के बाद एचएसएससी, एचपीएससी की परीक्षा के सेंटर बनने लगे है। पुलिस कांस्टेबल, सब इंस्पेक्टर के बाद नायब तहसीलदार की परीक्षा शांतिपूर्ण संपन्न हुई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस