संवाद सहयोगी, भिवाड़ी: औद्योगिक कस्बा में हरियाणा एनसीआर में कुख्यात कौशल गैंग अपना पैर पसार रहा है। पिछले बीस दिन में दो प्रतिष्ठानों पर दिनदहाड़े फायरिग कर रंगदारी मांगने के मामले में कौशल गैंग के गुर्गों के नाम सामने आए है। जिन बदमाशों के नाम सामने आए है, उनमें से एक अभी जेल में बंद है तथा दूसरा पैरोल पर जेल से बाहर आने के बाद फरार है। कौशल गैंग का नाम सामने आने के बाद राजस्थान पुलिस की चिता भी बढ़ गई है। दिनदहाड़े फायरिग की वारदात के बाद जयपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक हवा सिंह घुमरिया व डीआइजी क्राइम अनिल टांक ने भी भिवाड़ी का दौरा किया है।

पर्ची पर अमित डागर व टेकचंद का नाम:

भिवाड़ी के गांव घटाल स्थित एक स्क्रैप व्यापारी के गोदाम पर कार में सवार होकर आए बदमाशों ने 25 अगस्त को दिनदहाड़े ताबड़तोड़ फायरिग की थी तथा वहां मौजूद गार्ड को पांच करोड़ रंगदारी देने की धमकी भरी पर्ची थमा कर फरार हो गए थे। पर्ची पर अमित डागर व टेकचंद का नाम लिखा हुआ था। इसके बाद सोमवार को इसी तर्ज पर अलवर बाईपास स्थित हरीश बेकरी पर भी ताबड़तोड़ फायरिग कर एक करोड़ रंगदारी की पर्ची फेंक बदमाश फरार हो गए थे। इस पर्ची पर भी अमित डागर व टेकचंद के नाम बताए जा रहे है। वारदात का यह तरीका कौशल गैंग का रहा है। गुरुग्राम में भी कौशल गैंग द्वारा इसी प्रकार रंगदारी मांगी गई थी। रेवाड़ी के पुष्पांजली अस्पताल में भी करीब दो साल पहले रंगदारी के लिए ताबड़तोड़ फायरिग की गई थी। दोनों ही बार गैंग के बदमाश दिनदहाड़े वारदात कर फरार हो गए।

आइजी व डीआइजी ने किया दौरा:

25 अगस्त को स्क्रैप व्यापारी के गोदाम पर फायरिग के बाद भिवाड़ी पुलिस बदमाशों की तलाश में जुटी थी। लेकिन बदमाश एक बार फिर वारदात कर फरार हो गए, जिससे सुरक्षा व्यवस्था पर भी सवाल उठ रहे है। वारदात के बाद जयपुर रेंज के आइजी हवा सिंह घुमरिया व डीआइजी अनिल टांक ने भिवाड़ी का दौरा किया। अधिकारियों ने वारदात स्थल पर पहुंच कर निरीक्षण भी किया। आइजी ने कहा कि बदमाशों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। कौशल गैंग का शूटर अमित डागर वर्तमान में मंडोली जेल में बंद है, जबकि फरीदाबाद के गांव खेडी कलां निवासी टेकचंद पैरोल पर जेल से बाहर आने के बाद से फरार है। टेकचंद की तलाश उत्तर प्रदेश व हरियाणा पुलिस भी कर रही है।

Edited By: Jagran