यमुनानगर, जागरण संवाददाता, यमुनानगर। घर में घुसकर मारपीट व हत्या के प्रयास का दोषी इस्सोपुर निवासी हन्नी उर्फ लक्की पैरोल से फरार हो गया। उसे कोर्ट ने पांच साल की सजा सुनाई थी। इसके बाद से ही वह जगाधरी जेल में बंद था। 13 अप्रैल 2020 को उसे स्पेशल पैरोल मिली थी। उसे 10 अक्टूबर 2021 को वापस लौटना था, लेकिन वह वापस नहीं आया। जेल प्रशासन की ओर से उसके घर पर भी पता कराया गया, लेकिन वह नहीं मिला। जेल डीएसपी संजीव कुमार की ओर से उसके खिलाफ खिलाफ सदर यमुनानगर थाना में पैरोल एक्ट के तहत केस दर्ज कराया गया।

हन्नी को सुनाई थी पांच साल कैद की सजा

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर के गांव कुडिरायपुर निवासी विकास ममीदी गांव में किराये के मकान में रहते थे। 22 अप्रैल 2019 को उसकी साली घर पर पहुंची और उसे गालियां देने लगी थी। कुछ देर बाद साली का पति शादीपुर निवासी रसीद दो अन्य युवकों के साथ उसके घर पर पहुंचा। इन्होंने विकास के साथ मारपीट की और उस पर चाकूओं से वार किए। जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गया था। बाद में पुलिस ने फर्कपुर थाना पुलिस ने 24 अप्रैल 2019 को इस मामले में केस दर्ज किया और रसीद व उसके दो साथियों शक्ति और इस्सोपुर निवासी हन्नी को गिरफ्तार किया था। इसके बाद कोर्ट में केस की सुनवाई हुई थी। जहां हन्नी को पांच साल की कैद की सजा सुनाई गई थी। तभी से वह जेल में था।

यह दी जेल प्रशासन ने शिकायत

डीएसपी जेल संजीव कुमार की ओर से दी गई शिकायत के मुताबिक, दोषी हन्नी को पांच साल की सजा सुनाई गई है। 13 अप्रैल 2020 को उसे स्पेशल पैरोल मिली थी। यह एक सितंबर 2021 तक की थी। बाद में कमेटी ने उसकी पैरोल नौ अक्टूबर 2021 तक बढ़ा दी थी। उसे दस अक्टूबर को पैरोल का समय पूरा होने के बाद सरेंडर करना था, लेकिन वह तय समय पर जेल में नहीं पहुंचा। जिस पर उसके घर भी पता कराया गया, लेकिन कोई जानकारी नहीं मिली। दस दिन बीतने के बाद भी जब उसने सरेंडर नहीं किया, तो उसके खिलाफ सदर यमुनानगर थाना में शिकायत दी गई। सदर यमुनानगर थाना प्रभारी विजय कुमार ने बताया कि जेल प्रशासन की ओर से शिकायत मिली है। इस पर हन्नी के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

Edited By: Rajesh Kumar