करनाल, जागरण संवाददाता। आस्ट्रेलिया की सिडनी जेल में बंद करनाल वासी विशाल जूड शुक्रवार को रिहा हो जाएगा। जिससे परिवार में खुशी की लहर दौड़ी हुई है। एक सप्ताह के दौरान ही उसके अपने वतन लौटने की उम्मीद है, जिसके चलते परिवार तैयारियों में जुटा है। एयरपोर्ट से उसे पूरे स्वागत के साथ घर तक लाया जाएगा।

जेल से रिहा होने को लेकर वीरवार को विशाल जूड ने अपने स्वजनों से मोबाइल पर बातचीत भी की, जिस दौरान वह बेहद खुश था तो वहां पर उसके भारतीय दोस्तों में भी खुशी की लहर दौड़ी हुई थी। मामले की सुनवाई के बाद वहां की अदालत ने सितंबर माह के पहले सप्ताह में ही उसे 15 अक्तूबर को रिहा कर देने के आदेश दिए थे। अदालत द्वारा विशाल पर लगे नस्लीय आरोप हटा लिए गए थे और अदालत के इन आदेशों के बाद विशाल के साथ-साथ परिवार भी हर रोज इस दिन का बेसब्री से इंतजार कर रहा था।

वीरवार को विशाल जूड ने पिता नाथी राम, मां सुदेश देवी व भाई रवि जूड से भी बातचीत की और बताया कि वह दोपहर करीब 12 बजे जेल से बाहर आ जाएगा। उसने बताया कि उसके जेल से छूटने को लेकर संदीप धनखड़ सहित उसके अन्य दोस्त भी बेहद उत्साहित है। वे ही अब उसके आस्ट्रेलिया से अपने वतन लौटने को लेकर तैयारियों में जुटे हैं।

यह था मामला

विशाल को कथित तौर पर 16 सितंबर 2020 और 14 फरवरी 2021 के बीच हुए झगड़ों के तीन आरोपों के लिए दोषी ठहराया गया था। अंतिम सुनवाई के दौरान अदालत में विशाल के वकील ने जूड को उकसाए जाने का वीडियो भी पेश किया। इसी वीडियो के कारण विवाद हुआ था। जिन आरोपों के लिए जूड को दोषी ठहराया गया, उसके लिए गिरफ्तारी के दिन 16 अप्रैल 2021 से छह महीने की जेल की सजा सुनाई गई थी। इस तरह यह सजा 15 अक्टूबर को समाप्त होनी है। अदालत ने जब उक्त आदेश दिए थे, उस दिन भी विशाल जूड ने अपने परिवार से मिलकर पूरी जानकारी सांझा की थी तो परिवार ने जमकर खुशी मनाई थी।

करनाल के साथ-साथ पूरे प्रदेश व देश के लोग भी सड़कों पर उतर आए थे

आस्ट्रेलिया में पढ़ाई कर रहे मूल रूप से करनाल वासी 24 वर्षीय विशाल जूड को 16 अप्रैल को सिडनी में तीन आपराधिक घटनाओं में कथित रूप से शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। भारतीय राष्ट्रवादियों के एक समूह की आस्ट्रेलिया में कथित खालिस्तानियों से झड़प के बाद वहां पुलिस अधिकारियों ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस ने संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और मारपीट के आरोप में गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद से ही उसकी रिहाई की मांग हो रही थी। स्वजन लगातार प्रयासों में लगे थे तो उनके समर्थन में करनाल के साथ-साथ पूरे प्रदेश व देश के लोग भी सड़कों पर उतर आए थे।

उम्मीद में काटा एक-एक दिन : नाथी राम

विशाल जूड के पिता नाथी राम ने का कहना है कि विशाल को जेल हुई थी तो पूरा परिवार ही परेशान हो गया था। लेकिन वे एक-एक दिन इस उम्मीद में काट रहे थे कि विशाल जरूर बाहर आ जाएगा। उस पर लगाए गए आरोप सही नहीं है। जब पिछले माह उसकी रिहाई को लेकर आदेश हुए थे तो परिवार में फिर खुशी लौटने लगी थी। वह शुक्रवार को करीब 12 बजे जेल से रिहा हो जाएगा, जिसको लेकर विशाल ने उनके साथ लगातार दो दिन मोबाइल पर बातचीत की। वह बेहद खुश था। जेल से छूटने के बाद वह यहां अपने घर लौटे, इसके लिए प्रयास कर रहे हैं। उम्मीद है कि एक सप्ताह में वह यहां पहुंच जाएगा।

सांसद से लेकर मुख्यमंत्री का जताया आभार

नाथी राम का कहना है कि उनके बेटे को जेल से छुड़ाने के लिए स्थानीय विधायक, सांसद से लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल का भी आभार जताया है। उन्होंने कहा कि इन्हीं के प्रयासों के चलते ही रवि का जेल से रिहा होना संभव हो पाया है।

Edited By: Naveen Dalal