जागरण संवाददाता, पानीपत : ईद-उल-अजहा (बकरीद) की छुट्टी के कारण बुधवार को केवल सिविल अस्पताल में ही कोरोना वैक्सीनेशन होगा। टीकाकरण में लगे स्टाफ को एक दिन का आराम देने के लिए बाकी स्थानों पर टीकाकरण नहीं होगा। रजिस्ट्रेशन के साथ स्लाट चुन चुके लाभार्थियों को पहला-दूसरा टीका लगाया जाएगा।

वैक्सीनेशन के नोडल अधिकारी डा. मनीष पासी ने जागरण को बताया कि अभी तक जिले में 2.99 लाख 602 लाभार्थी पहला टीका लगवा चुके हैं। बुधवार तक यह आंकड़ा तीन लाख पार जाने की संभावना है। इनमें से 68 हजार 631 लाभार्थियों ने दूसरी डोज भी लगवा ली है। मंगलवार को 13 सेशन संपन्न हुए, इनमें 2051 ने टीका लगवाया। 18 से 44 साल आयु वर्ग में 989 ने पहला, 118 ने दूसरी टीका लगवाया। 45 साल या इससे अधिक आयु वर्ग में 214 को पहली और 730 लाभार्थियों को दूसरी डोज लगाई गई।

डा. पासी ने बताया कि चार से छह माह गर्भवती, दिव्यांग किसी कारण से कोविन एप पर टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन में असमर्थ हैं तो केंद्र पर ही उनका रजिस्स्ट्रेशन कर दिया जाएगा। गर्भवती को अपना प्रसव पूर्व जांच का कार्ड, फोटो युक्त आइडी और मोबाइल फोन साथ लाना होगा। कालेज के विद्यार्थियों का टीकाकरण चुनौती

शिक्षण संस्थानों में अध्यनरत, 18 साल से अधिक आयु के विद्यार्थियों का टीकाकरण जरूरी कर दिया गया है। जिस विद्यार्थी को एक टीका लग चुका है, उसे ही कालेज में प्रवेश मिलेगा। इनकी संख्या एक लाख से अधिक बताई गई है। वैक्सीन संकट के चलते स्वास्थ्य विभाग के लिए विद्यार्थियों को टीका लगाना चुनौती है। न कोई पाजिटिव, न कोई रिकवर

कोरोना की दूसरी लहर खत्म होने की स्थिति में है। मंगलवार को न कोई पाजिटिव मिला और न कोई रिकवर हुआ है। इससे पहले 15 जुलाई को भी ऐसी ही स्थिति बनी थी। पानीपत में अभी तक मिले 31 हजार 84 पाजिटिव केसों में से 30 हजार 438 रिकवर हो चुके हैं। आठ केस एक्टिव हैं, अभी तक 638 मरीजों की मौत हो चुकी है।

Edited By: Jagran