करनाल, जेएनएन। करनाल में एक मार्च से कोरोना टीकाकरण के तीसरे चरण की शुरूआत होगी। इसको लेकर शनिवार को एमडी एनएचएम व आयुष्मान भारत के सीइओ ने वीसी के माध्यम से जिले में वैक्सीनेशन प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए चिकित्सा अधिकारियों की बैठक भी ली। इसके बाद सिविल सर्जन डा. योगेश शर्मा ने प्राइवेट अस्पताल के चिकित्सकों व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की बैठक लेकर दिशा-निर्देश दिए।

डा. योगेश ने इसके बाद पत्रकारों से भी बातचीत की और कोरोना वैक्सीनेशन के तीसरे चरण को लेकर विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के बुजुर्गों को कोरोना की डोज दी जाएगी। एक मार्च से तीसरे चरण का अभियान शुरू किया जाएगा। यही नहीं इसके अलावा 45 से 60 वर्ष के उन लोगों को भी टीका लगाया जाएगा को कोमोरबिडिटीज की श्रेणी यानि जो किसी अन्य बीमारी से ग्रस्त हैं। लेकिन इसके लिए जहां से इलाज चल रहा है संबंधित चिकित्सक से बीमारी को चिन्हित कर आधिकारिक रूप से स्वीकृति देनी होगी।

आयुष्मान भारत योजना के तहत पैनल में शामिल अस्पतालों में लगेगा टीका, शुल्क होगा फिक्स

डा. योगेश शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री जन अरोग्य योजना यानि आयुष्मान भारत के तहत आने वाले निजी अस्पतालों में भी टीकाकरण कराया जाएगा। लेकिन शुरूआत में मल्टी स्पेशल अस्पतालों में ही इस टीकाकरण की शुरूआत होगी। उसके बाद दूसरे अस्पतालों में चरणबद्ध तरीके से टीका लगाया जाना है। विशेष बात यह है कि निजी अस्पतालों में कोरोना टीकाकरण की प्रति डोज के हिसाब से शुल्क फिक्स किया जाएगा, अभी सरकार की ओर से फिक्स किया जाना है। लेकिन सरकार द्वारा निर्धारित की गई वैक्सीन के रेट के अलावा 100 रुपये सर्विस चार्ज के रूप में लिए जाएंगे। वहीं सरकारी अस्पतालों में निशुल्क टीका लगाया जाएगा।

आनलाइन या फिर टीकाकरण स्थल पर जाकर किया जा सकता है पंजीकरण

टीकाकरण कराने वाला कोई भी व्यक्ति टीकाकरण स्थल पर जाकर अपना पंजीकरण करा सकता है। इसके अलावा आनलाइन पहले से पंजीकरण करवा कर टीकाकरण की एप्वाइंटमेंट बुक करा सकता है। लाभार्थियों को पंजीकरण करवाने के लिए आधार कार्ड, वोटर कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पेंशन सर्टीफिकेट फोटो सहित, एनपीआर स्मार्ट कार्ड, सभी सात में से कोई भी एक आइडी इस्तेमाल करना जरूरी है। आनलाइन पंजीकरण करवाते समय दो फोटो पहचान पत्र का प्रकार नंबर अपना नाम, पैदा होने का साल व लिंग लिखवाना जरूरी होगा। ऐसे लाथार्भी जो 45 से 59 वर्ष के बीच हैं व कोमोरबिडिटीज से ग्रसित हैं, उन्हें पंजीकृत चिकित्सक द्वारा दिए गए प्रारूप पर अपना सर्टिफिकेट लाना अनिवार्य है।

जिले में अब तक 16733 को दी जा चुकी है कोरोना की डोज

जिले में अब तक 16733 लाभार्थियों को कोरोना की डोज दी गई है। जिसमें 10977 लोगों को कोविशील्ड की पहली डोज व 3487 को दूसरी डोज दी जा चुकी है। इसी प्रकार कोवैक्सीन की 1625 पहली डोज व 485 दूसरी डोज दी जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि सेंटरों की संख्या बढ़ाकर कोरोना टीकाकरण अभियान में तेजी लाई जाएगी।

सिविल सर्जन डा. योगेश शर्मा ने कहा कि शनिवार को एमडी एनएचएम व सीईओ आयुष्मान भारत के साथ वीसी थी, जिसमें उन्होंने वैक्सीनेशन के तीसरे चरण को सिरे चढ़ाने के लिए विस्तार से चर्चा की है। उसके बाद निजी अस्पतालों के चिकित्सकों विशेषकर आयुष्मान भारत योजना के तहत पैनल में शामिल होने वाले अस्पताल के चिकित्सकों के साथ बैठक हुई है। सरकारी संस्थानों के अलावा इन निजी अस्पतालों को भी वैक्सीनेशन के इस अभियान में शामिल किया जाएगा। वैक्सीनेशन से पहले क्या व्यवस्था रहेगी उसको लेकर विस्तार से चर्चा हो गई है। किसी भी लाभार्थी को परेशानी नहीं आने दी जाएगी।

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021