जागरण संवाददाता, समालखा : अनाज मंडी में बारदाने की कमी से तीन दिनों से गेहूं की खरीद प्रभावित हो रही है। हजारों क्विंटल गेहूं के ढेर आढ़त की दुकानों के आगे लगे हैं। गेहूं लेकर मंडी पहुंचने वाले किसानों के साथ आढ़ती परेशान हैं। एसडीएम विजेंद्र हुड्डा ने वीरवार को अनाज मंडी के निरीक्षण के समय हैफेड मैनेजर और डीएफएससी को मामले से अवगत कराया है। साथ ही बारदाने की व्यवस्था करने कहा है। दोनों ने शुक्रवार दोपहर बाद बारदाना आने का भरोसा दिया है।

सोमवार की खरीद के बाद अनाज मंडी में बारदाने की कमी हो गई थी, जिससे मंगलवार, बुधवार और वीरवार को खरीद नहीं हो सकी। डीएफएससी ने वैकल्पिक व्यवस्था कर बुधवार को करीब 10 हजार क्विंटल की खरीद की। वहीं अब तक कुल 7.62 लाख क्विंटल की खरीद में 52.5 प्रतिशत का उठान हो चुका है।

मंडी एसोसिएशन के प्रधान बलजीत सिंह, उपप्रधान जयपाल सिंह, प्रवीण, सुभाष का कहना है कि खरीद बंद होने से किसानों के सामने समस्या खड़ी हो गई है। मौसम के करवट बदलने से किसान और आढ़ती दोनों परेशान हैं। गेहूं के भीगने की चिता सता रही है। उन्होंने कहा कि गेहूं के ढेर को हमेशा तिरपाल से ढके रखना भी संभव नहीं है। बेसहारा पशुओं का भी डर रहता है। रखवाली के लिए चौकीदार का खर्च अलग से वहन करना पड़ता है। इतनी परेशानी होने के बावजूद एजेंसी खरीद नहीं कर रही है। बारदाने की किल्लत बता रही है। उठान की गति भी बेहद धीमी है। किसान उनकी दुकान के सामने ढेर लगाकर चले जाते हैं।

Edited By: Jagran