जागरण संवाददाता, पानीपत : दो दिन बाद आढ़तियों की हड़ताल खुलते ही तीसरे दिन शनिवार को पानीपत बाबरपुर मंडी और बबैल केंद्र पर 1 लाख 23 हजार 160 क्विटल गेहूं की खरीद हुई। आढ़तियों की हड़ताल के चलते मंडियों में जाम की स्थिति बनी हुई है। सड़कों पर गेहूं डालने पर किसान मजबूर हैं। मार्केट कमेटी के डीएमइयू महावीर सिंह ने बताया कि हैफेड ने गेहूं खरीद की है। मंडी में वही गेहूं नहीं खरीदा गया है, जिसका पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ, अथवा गेट पास नहीं बने हैं। गेहूं का भुगतान सीधे किसानों के खाते में जाएगा। इस बीच,भारतीय जनता पार्टी पानीपत की जिला अध्यक्ष डॉ अर्चना गुप्ता ने अनाज मंडियों का दौरा कर किसानों की समस्याएं सुनीं। अनाज मंडी में दौरे के दौरान उन्होंने गेहूं खरीद की संपूर्ण जानकारी ली एवं किसानों को आ रही समस्याओं के बारे में जाना।

बापौली मंडी में 32 हजार क्विटल की खरीद

संवाद सूत्र, बापौली : अनाज मंडी सनौली-बापौली में आढ़तियों ने हड़ताल समाप्त कर गेहूं की खरीद शुरू करा दी है। बापौली मंडी में 32 हजार क्विटल गेहूं की खरीद की गई। उधर, दोनों मंडियों में बारदाना की कमी होने लगी है।

सनौली अनाज मंडी में नौ हजार क्विटल गेहूं की खरीद हुई। बापौली अनाज मंडी में गेहूं खरीद एजेंसी हरियाणा वेयर हाउस के निरीक्षक सुरजीत कुमार, निगरानी कमेटी चेयरमैन विनोद छौक्कर, कमेटी सचिव रामजीलाल के नेतृत्व में हुई। मंडी सचिव ने किसानों और आढ़तियों से सूखा गेहूं बेचने के लिए सहयोग मांगा।उधर, बापौली-सनौली क्षेत्र के किसानों ने अस्थाई दमकल केंद्र बनाने की जिला प्रशासन से मांग की है। किसान राजेंद्र कुमार, कृष्ण लाल, सलीम, सुनील, सतपाल का कहना है कि विगत सत्रों में अस्थाई केंद्र बनते रहे हैं। इस बार नहीं बने हैं। फसल में आग लगने पर फायर ब्रिगेड देरी से पहुंचती है, तब तक फसल जलकर राख हो जाती है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप