जागरण संवाददाता, पानीपत : साहब! जनवरी माह में पीएम आवास के तहत निगम के चार कर्मचारियों ने घर पहुंचकर यह कहकर मकान को तुड़वा दिया कि आपका मकान पीएम आवास योजना के तहत पास हुआ है। आपको निगम से पैसा मिलेगा। नया बनाना। फिर निगम के कर्मचारियों ने रिश्वत की मांग की। अब काम बीच में लटक गया है। पांच माह से निगम के चक्कर काट रही हूं। यह कहानी सुनाई वार्ड 10 रानी मोहल्ला निवासी मुन्नी देवी ने। निगम में सीनियर डिप्टी मेयर दुष्यंत भट्ट के कार्यालय में निगम के ये हालात सामने आए।

मुन्नी देवी ने बताया कि पांच माह से अब किराए के मकान में रह रहे हैं। जब भी निगम के अधिकारियों से पीएम आवास के तहत मिलने वाले पैसों के बारे में बात करते हैं तो नाम नहीं होने का हवाला देकर वापस भेज देते हैं। वहीं निगम के चार कर्मचारी जिन्होंने मकान का सर्वे किया था, वो खर्चा पानी मांग रहे हैं।

सोमवार को नगर निगम के सीनियर डिप्टी मेयर कार्यालय में शहर के रानी मोहल्ला निवासी मुन्नी देवी देवी ने मौजूद अधिकारियों के समक्ष निगम के चार कर्मचारियों पर सीधे पैसे लेने के आरोप लगाए। जब आरोपित व पीड़ित पक्ष आमने-सामने हुए तो एक बार तो कर्मचारियों ने पीड़ित महिला को पहचाने से भी मना कर दिया था। इसके बाद महिला मुन्नी देवी ने सभी की पहचान की। बताया कि यही कर्मचारी आए थे मेरे घर। इन्होंने ही मकान तोड़ने के लिए कहा था। कुछ खर्चा पानी देने के लिए भी बोला था। हमारे पास पहले देने के लिए पैसे नहीं थे, इसीलिए काम को बीच में लटकाया जा रहा। दो घंटे तक चली बहस

सीनियर डिप्टी मेयर दुष्यंत भट्ट के कार्यालय में दो घंटे तक कर्मचारियों व पीड़ित पक्ष के बीच में बहस चली। मुन्नी ने कहा कि मेरे पति कबाड़ी का काम करते हैं। लाकडाउन में यह काम भी बंद हो चुका है। अब घर पर खाली ही रहते हैं। इससे मकान का किराया व घर का खर्च चलाना भी मुश्किल हो रहा है, इसीलिए पीएम आवास के तहत मकान के जल्द से जल्द पैसे दिलवाए जाए। निगम पर पहले भी भ्रष्टाचार के आरोप

भ्रष्टाचार को लेकर नगर निगम विवादों में रहा है। कुछ दिनों पहले ही भ्रष्टाचार के आरोप में मुख्य सफाई निरीक्षक रिश्वत लेते रंगे हाथों विजिलेंस टीम ने गिरफ्तार किया था। वहीं पार्षदों ने भी स्ट्रीट लाइट लगवाने को लेकर चीफ इंजीनियर पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। अधिकारियों से बात कर करवाई जाएगी जांच

सीनियर डिप्टी मेयर दुष्यंत भट्ट का कहना है कि सोमवार को रानी मोहल्ला की रहने वाली एक महिला आई। निगम के कर्मचारियों पर पीएम आवास के तहत मकान तुड़वाने व रिश्वत मांगने के आरोप लगाए हैं। अभी आरोपित कर्मचारियों को निलंबित करने की चेतावनी दी गई है। अगर काम नहीं होता है तो चारों कर्मचारियों की निलंबित करने की सिफारिश की जाएगी। मेरे सामने भी पहली बार मामला सामने आया

डीएमसी जितेंद्र कुमार का कहना है कि उनके सामने इस तरह का मामला पहली बार सामने आया है। अब जो भी कार्रवाई करनी है, वह सीनियर डिप्टी मेयर के निर्देशानुसार ही होगी।

Edited By: Jagran