पानीपत, जेएनएन।  चुलकाना के सुरेंद्र कुमार ने गांव में इलाहाबाद बैंक के मैनेजर, उप मैनेजर, कैशियर और कर्मचारी पर साजिश के तहत फर्जी हस्ताक्षर कर खाते से छह लाख रुपये निकालने का आरोप लगाया है। पुलिस ने चारों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। सुरेंद्र ने बताया कि उसका गांव के इलाहाबाद बैंक में खाता है। गत 6 अगस्त और 9 सितंबर को उसके खाते से फर्जी हस्ताक्षर के जरिए तीन-तीन लाख रुपये निकाले गए। 10 अक्टूबर को जब उसकी पत्नी व बेटी कॉपी अपडेट कराने गई तो उसे मामले का पता चला। वह नोटबंदी के बाद रुपये निकालने बैंक नहीं गया। उसके परिजन ही खाते से लेनदेन करते थे।

आरोप है कि मिलीभगत से ही यह संभव है। रुपये के बारे में पूछे जाने पर मैनेजर ने उसके साथ अभद्रता की। साथ भी धमकी दी। गत 11 अक्टूबर को शिकायत देने के बाद भी पुलिस ने 20 दिन बाद मुकदमा दर्ज किया। सीएम विंडो, पीएमओ आदि में शिकायत के बाद मैनेजर भगतराम, उप मैनेजर आलोक, कैशियर सौरभ व कर्मचारी अमित के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

आरोप निराधार

भगतराम मैनेजर भगतराम ने कहा कि निकासी पर्ची उनके पास है। उस पर प्रार्थी के हस्ताक्षर हैं। शिकायत मिलने के बाद उच्चाधिकारियों ने इसकी जांच की है। रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। प्रार्थी के हस्ताक्षर की फोरेंसिक जांच होगी। उन पर लगे सभी आरोप निराधार हैं।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप