जींद, जेएनएन। गांव अलीपुरा के स्वामी दयानंद मेमोरियल माध्यमिक विद्यालय के संचालक सुरेश की हत्या में बदमाशों ने दिल्ली से चोरी हुई गाड़ी का प्रयोग किया है। सीसीटीवी कैमरों में कैद हुए गाड़ी के नंबरों के माध्यम से पुलिस ने जब रिकॉर्ड खंगाला तो वह दिल्ली के किसी व्यक्ति के नाम पर मिली। पुलिस जब गाड़ी मालिक के पास पहुंची तो पता चला कि लगभग एक माह पहले ही गाड़ी चोरी होने पर दिल्ली पुलिस ने चोरी का मामला दर्ज किया हुआ है।

जब पुलिस ने स्कूल व आसपास के एरिया में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगाला तो उसमें चार-पांच संदिग्ध युवक दिखाई दे रहे हैं। उनके चेहरे भी सही तरह से पहचान में आ रहे हैं। पुलिस ने इन संदिग्ध युवकों के फुटेज स्कूल संचालक सुरेश के स्वजनों को दिखाई, लेकिन वे इन युवकों को पहचान नहीं पाए। इसलिए पुलिस को आशंका है कि आरोपित रोहतक जिले के गांव सुनारिया निवासी अर्पित, नवीन उर्फ काला, गांव रिठाल निवासी नवीन उर्फ भोला, गांव डीघल निवासी राहुल, सन्नी, गांव भराना निवासी अंकित, गांव समचाना निवासी मनीष, गांव फरमाणा निवासी राहुल, गांव छारा निवासी तरुण, गांव कुलताना निवासी साहिल, गांव भैंसवाल निवासी अनुज ने योजनाबंद तरीके से दूसरे युवकों की सहायता से निजी स्कूल संचालक की हत्या करवाई हो।

रात को दी आरोपितों के ठिकानों पर दबिश

ये सभी सुरेश के बेटे साहिल की पांच दिसंबर 2018 को नेकीराम कालेज रोहतक में हुई हत्या के आरोपित हैं और उनके खिलाफ रोहतक अदालत में मामला विचाराधीन है। हालांकि ये सभी आरोपित फिलहाल जमानत पर बाहर है। उचाना थाना पुलिस ने सभी आरोपितों के ठिकानों पर सोमवार रात को ही उनके घरों पर दबिश दी, लेकिन सभी आरोपित गायब मिले।

आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए बनाईं तीन टीमें

उचाना थाना प्रभारी रविंद्र कुमार ने बताया कि आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमों का गठन किया है। इसलिए सीआइए स्टाफ, डिटेक्टिव स्टाफ व उचाना थाना पुलिस की टीम आरोपितों के संभावित ठिकानों पर छापेमारी जारी है। आरोपितों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Edited By: Umesh Kdhyani