यमुनानगर, जेएनएन। आज भले ही कोरोना संक्रमितों के लिए आक्सीजन की कमी को लेकर कई राज्यों में हाहाकार मचा है, जबकि घर में लगाए गए छोटे-छोटे पौधे भी पूरे परिवार को अच्छी मात्रा में आक्सीजन उपलब्ध करवा सकते हैं। मॉडल टाउन निवासी सचिन बजाज ने अपने घर की छत पर 62 गमले रखे हुए हैं। इनमें आक्सीजन देने वाले स्नेक प्लांट, एलोवेरा, लेडी पाम व तुलसी के दर्जनभर पौधे लगे हैं। इनके अलावा मसालेदार पौधे जिनमें तेज पत्ता, अजवाइन, कढ़ी पत्ता, हींग, आक व दालचीनी के पौधे भी लगाए हुए हैं।

सचिन बजाज सब्जी मंडी यमुनानगर के वाइस प्रेसिडेंट के अलावा रोटेरियन भी हैं। परिवार में पत्नी व दो बच्चों समेत कुल चार सदस्य हैं। सचिन बजाज को कई सालों से पौधे लगाने का शौक है। हालांकि, पहले वह फूलों के पौधे ज्यादा लगाते थे। परंतु आठ साल से वह आक्सीजन व मसालों के पौधे लगाकर इनकी देखभाल कर रहे हैं। यह पौधे उन्होंने विशेष तौर पर आर्डर देकर पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के जिला सहारनपुर से मंगवाए थे।

खुशबू से महकती रहती है छत

जैसे ही कोई व्यक्ति सचिन बजाज के घर की छत पर चढ़ता है उसे एक अलग सी खुशबू का एहसास होता है। क्योंकि छत पर मसालेदार पौधे लगे हैं। इसलिए इनकी खुशबू से छत दिनरात महकती रहती है। रिश्तेदार या जान पहचान वाले उत्सुक होकर पूछते हैं कि उन्होंने कौन सी किस्म के पौधे छत पर लगा रखे हैं, जिनसे छत इतनी महक रही है। तब उनसे प्रेरित होकर वह भी अपने घर में ऐसे ही पौधे लगाने की बात कहते हैं।

आक्सीजन देने वाले पौधे समय की जरूरत : सचिन बजाज

सचिन बजाज का कहना है कि 24 घंटे आक्सीजन देने वाले पौधे वर्तमान में समय की जरूरत बन गए हैं। क्योंकि वातावरण काफी प्रदूषित होने लगा है। शहर में तो और भी ज्यादा हालात खराब हैं। क्योंकि पास में ही इंडस्ट्रियल एरिया है। जहां हर समय उद्योगों की चिमनियों से काला धुंआ निकलता रहता है। कई मिल तो ऐसी हैं जिनके धुंए से दुर्गंध भी आती है। इसलिए उन्होंने घर पर आक्सीजन देने वाले पौधे लगाए थे। ताकि परिवार घर के अंदर व आसपास का वातावरण साफ रहे। लॉकडाउन के बाद वह घर में आक्सीजन देने वाले अन्य किस्म के पौधे भी लगाएंगे। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वह भी अपने घर में आक्सीजन देने वाले दो-चार पौधे जरूर लगाएं।