जागरण संवाददाता, पानीपत : प्रदेश के गृहमंत्री अनिल विज ने किसानों के आंदोलन को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरेंदर सिंह की राजनीति करार दिया है। उनका कहना है कि अगले वर्ष पंजाब में चुनाव हैं। ऐसा लग रहा है कि पंजाब के सीएम ने किसानों को उकसाकर भेजा है। अनिल विज सोमवार शाम को पानीपत के तहसील कैंप में पूर्व पार्षद स्व.हरीश शर्मा के परिवार को सांत्वना देने के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। विज ने कहा कि किसान आंदोलन पर सवाल उठाते हुए कहा कि देश के इकलौते पंजाब राज्य से ही किसान आगे आया है। बाकी किसी प्रदेश के किसान नही् पहुंचे। क्या बाकी प्रदेशों के किसान पढ़े-लिखे नहीं हैं। क्या वो समझदार नहीं हैं। महाराष्ट्र, तेलंगाना, गुजरात से किसान क्यों नहीं आए। दरअसल, ये सब राजनीति हो रही है। कृषि कानून पूरे देश के लिए लागू हुए हैं। सरकार और आंदोलनकारियों के बीच बातचीत के सवाल पर विज ने कहा कि आंदोलन तब होते हैं जब सरकार बात न सुने। हम तो कह रहे हैं कि बातचीत के लिए तैयार हैं। आंदोलन, जाम खत्म करके बातचीत का सिलसिला शुरू होना चाहिए। सरकार को समर्थन दे रहे निर्दलीय विधायक सोमबीर सांगवान ने किसानों के लिए पशुधन विकास बोर्ड के चेयरमैन पद से इस्तीफा दे दिया है, इस पर विज ने कहा कि पहले किसानों से बातचीत हो जाए, मसला सुलझ जाए। फिर इस विषय पर भी बात करेंगे। क्या कैप्टन का अपने स्टाफ पर नियंत्रण खत्म हो गया है

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरेंदर सिंह के बीच काल डिटेल को लेकर चल रहे मसले पर विज ने कहा कि सीएम मनोहरलाल ने सुबूत सामने रख दिया है। अब कैप्टन कह रहे हैं कि उनके मोबाइल फोन पर बात करते। सवाल ये है कि क्या कैप्टन अमरेंदर का अपने स्टाफ पर नियंत्रण नहीं रहा। दरअसल, कैप्टन अमरेंदर राजनीति कर रहे हैं। मुख्यमंत्री मनोहरलाल को पंजाब के सीएम से फीडबैक लेना था, ला एंड आर्डर पर बात करनी थी लेकिन ऐसा नहीं हो सका।

Edited By: Jagran