जागरण संवाददाता, समालखा: वायरल बुखार और डेंगू की दस्तक से लोग परेशान हैं। हालांकि सर्दी शुरू होने से बुखार के मरीजों में कमी आने लगी है। सरकारी सहित निजी अस्पताल व क्लीनिकों में मरीजों की भरमार है।

उपमंडल अस्पताल में जांच की सुविधा नहीं होने से मरीजों के खून के सैंपल पानीपत भेजे जाते हैं। वहां से रिपोर्ट आने के बाद मरीजों को बीमारी का पता चलता है। समालखा खंड में बृहस्पतिवार को चार नए केस मिले हैं, जिससे सीजन में डेंगू मरीजों की संख्या 13 हो गई है। 8 ठीक भी हो चुके हैं। दिल्ली और करनाल में उपचार के दौरान संदिग्ध डेंगू बुखार से दो महिलाओं की मौत भी हो चुकी है। बुखार के केस कम होने के बावजूद कस्बे और ग्रामीण अंचल में हर तीसरे व चौथे परिवारों में बुखार के मरीज हैं। कुछ परिवारों में तो वायरल ने सभी सदस्यों को अपनी चपेट में ले लिया है। मरीजों की भरमार से निजी क्लीनिक व अस्पताल संचालकों की चांदी है। एसएमओ संजय अंतिल ने बताया कि डेंगू वाले क्षेत्र में लार्वा की जांच करवाई जा रही है। सैंपल भी लिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वायरल बुखार के मरीज अधिक हैं। सर्दी शुरू होने से 200 की ओपीडी में केवल 15 से 20 बुखार के मरीज प्रतिदिन आ रहे हैं, जिनकी जांच करवाई जा रही है। चार नए को छोड़कर पुराने केस ठीक हो चुके हैं।

Edited By: Jagran