पानीपत, जागरण संवाददाता। ट्रैफिक हवलदार ने आशीष कुमार ने पुलिसकर्मियों पर भ्रष्टाचार और अपराधियों से मिलीभगत के आरोप लगाकर त्यागपत्र दे दिया। वहीं एसपी का कहना है कि आशीष अपनी मनमर्जी से अलग-अलग क्षेत्रों पर ड्यूटी करने के लिए पहुंच जाता था। ड्यूटी को छोड़कर अलग-अलग थाना क्षेत्रों में जाकर नियम के खिलाफ दबिश दे रहा था।

एसपी कार्यालय में जाकर दिया त्‍यागपत्र

हवलदार आशीष कुमार त्याग पत्र देने के लिए एसपी कार्यालय पहुंचे। जहां से उन्हें इंग्लिश ब्रांच में जाकर त्यागपत्र देने को बोला गया। वहां पर उन्होंने त्यागपत्र सौंपा। एसपी के नाम लिके त्यागपत्र में आशीष कुमार ने बताया कि 19, 20 और सितंबर को अतिक्रमण हटाने व यातायात ड्यूटी के दौरान तहसील कैंप थाना क्षेत्र गया था। वहां पर उसने जुआरियों, नशेडिय़ों व अवैध शराब पकड़ी थी।

पुलिस संरक्षण में चल रहा अवैध धंधा

आरोप है कि ये सभी पुलिस के संरक्षण में चल रहा था। सादे कपड़े पहने पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे और नशा तस्करों को भगाने में मदद की। आरोप है कि अवैध धंधे पुलिस के संरक्षण में चल रहे हैं। जिससे वह आहत है। उसका जमीर ऐसे कार्य होते नहीं देख सकता। वह नौकरी छोड़ सन्यास लेने के लिए बाध्य है। उसका त्यागपत्र स्वीकार किया जाए।

2018 में भी मांगी थी आशीष ने रिटायरमेंट

एसपी शशांक कुमार सावन का कहना है कि मुख्य सिपाही आशीष कुमार ने अपनी कुछ समस्याएं आज लिखकर दी हैं। इसके संदर्भ में समस्या का समाधान निकालने के लिए जरूरत पड़ी तो मुख्य सिपाही आशीष कुमार की काउंसङ्क्षलग करवाई जाएगी। इससे पहले भी वर्ष 2018 में मुख्य सिपाही आशीष द्वारा स्वेच्छा से रिटायरमेंट लेने के बारे में अर्जी दे चुका है। उस समय भी उच्च अधिकारियों द्वारा काउंसङ्क्षलग करवाकर समझाकर विभाग में बने रहने दिया था। इसके अतिरिक्त मुख्य सिपाही आशीष कुमार के खिलाफ अलग-2 मामलों में संलिप्त होने के कारण कई बार कानूनी एंव विभागीय कार्यवाही अमल में लाई जा चुकी है। अब आशीष त्यागपत्र देना चाहता हैं, तो ये उनकी मर्जी है।

आशीष के नाम पर वधावाराम कालोनी में युवक से मारपीट

पुलिस के अनुसार 21 सितंबर की रात करीब 8:30 बजे दो युवक सादे कपड़ों में वधावाराम कालोनी पानीपत में चिराग के घर के बाहर पहुंचे। जहां पर उन्होंने चिराग से जबरदस्ती क्षेत्र में शराब के खुर्दों के बारे में पूछा। चिराग ने जानकारी न होने के कारण मना किया, तो दोनों ने चिराग के साथ मारपीट कर दी। उन युवकों द्वारा अपने आप को मुख्य सिपाही आशीष के आदमी होने का दावा किया गया। जिस घटना के संबंध में पीडि़त चिराग द्वारा अपने चोट का मेडिकल करवाकर थाना तहसील कैंप में शिकायत दर्ज करवाई। उधर पुलिस ने वधावाराम कालोनी में एक मकान में जो शराब मिली थी, उसके संबंध में थाना तहसील कैंप केस दर्ज करके आरोपित जसक्रीत की गिरफ्तारी की गई।

पुलिसकर्मियों पर लगे आरोपों की होगी जांच: एसपी

एसपी शशांक कुमार सावन ने कहा कि हवलदार आशीष कुमार द्वारा वीरवार को मीडिया के माध्यम से भ्रष्टाचार और अवैध कार्यों में पुलिस की संलिप्ता के बारे में जो आरोप लगाए हैं, उनकी जांच की जाएगी। भ्रष्टाचार और अवैध कार्यों में पुलिस की संलिप्ता किसी भी सूरत में सहन नहीं की जाएगी। इससे पहले भी ऐसे कार्यों में संलिप्ता पाए जाने पर कार्रवाई की जा चुकी है।

Edited By: Anurag Shukla