पानीपत, जागरण संवाददाता। कोरोना(Corona) और ओमिक्रान(Omicron) का खतरा लगातार बढ़ रहा है। ऐसे में हमें कुछ बातों का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। इनमें से एक है फेस मास्क(Face Mask) पहनने का सही तरीका। या फिर कौन सा मास्क पहने कौन सा नहीं। कोरोना की तीसरी लहर (Corona third Wave) कहर बरपा रही है। जनवरी के 16 दिनों में 1968 केस मिल चुके हैं। यानि, औसतन 123 केस प्रतिदिन मिल रहे हैं। पहले हफ्ते की तुलना में दूसरे हफ्ते में साढ़े पांच गुना केस बढ़ गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी केस वृद्धि की आशंका जता रहे हैं। फरवरी में संक्रमण उच्च स्तर पर हो सकता है। ऐसे में डबल सर्जिकल मास्क या एन-95 मास्क से बचाव हो सकता है।

कोरोना रोधी दोनों-तीनों डोज जरूर लगवाएं।सिविल सर्जन डा. जितेंद्र कादियान ने बताया कि बाजार में तीन तरह के मास्क, सर्जिकल मास्क, कपड़े का मास्क और एन-95 उपलब्ध हैं। सूती कपड़े का अच्छी क्वालिटी का मास्क इस्तेमाल करने में कोई हर्ज नहीं है। ध्यान रहे कि मास्क का कपड़ा ऐसा हो जिसमें मोटे छिद्र न हों। अगर ऐसा हुआ तो वायरस पार जा सकता है। श्वास के जरिए फिर वह गले तक पहुंचकर आपको संक्रमित कर सकता है। कपड़े के मास्क को धोकर-सुखाकर पुन: इस्तेमाल कर सकते हैं। बेहतर होगा कि एक मास्क एक दिन इस्तेमाल करें, फिर उसे धो दें।

डबल मास्क पहनने से मिलती है 95 प्रतिशत सुरक्षा

जब आप भीड़भाड़ वाले स्थान पर जाएं तो बचाव आपके हाथ में है। सर्जिकल मास्क के ऊपर कपड़े का मास्क पहनने से 95 प्रतिशत सुरक्षा मिलती है। इससे मास्क के किनारे से हवा के साथ वायरस के प्रवेश की संभावना लगभग खत्म हो जाती है। सर्जिकल मास्क एक दिन ही पहनें, इसके बाद इसे डस्टबिन में फेंके, खुले स्थान पर न फेंके। एन-95 मास्क महंगा जरूर है लेकिन वायरस को रोकने में सक्षम है।

मास्क काे सही तरीके से पहनें

कोरोना महामारी से बचाव के लिए मास्क का सही इस्तेमाल बहुत जरूरी है। मास्क को ठोडी, गर्दन पर नहीं लटकाना चाहिए। मास्क ढीला न हो, कान में लास्टिक फंसाएं तो यह पूरी तरह टाइट रहे। ठोडी से लेकर नाक तक को कवर करते हुए ही मास्क पहनें। डबल मास्क पहनते समय ध्यान रखें कि श्वास लेने में ज्यादा तकलीफ तो नहीं हो रही है।

शारीरिक दूरी अनिवार्य

कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकना है तो सार्वजनिक स्थान पर दो गज की शारीरिक दूरी का पालन करें। हाथों को दिन में कई बार सैनिटाइज करें। हाथों को बार-बार नाक-मुंह से न लगाएं। बाहर से घर पहुंचें तो सबसे पहले हाथ-मुंह जरूर धोएं।

Edited By: Rajesh Kumar