अंबाला, जागरण संवाददाता। अंबाला में कोरोना के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं, इस बार एक महीने के संक्रमण काल जनवरी 2022 के सिर्फ 23 दिनों में 364 बच्चे संक्रमित मिले। इसमें वह बच्चे संक्रमण की चपेट में आए जिनकी उम्र 12 आयु वर्ग से कम रही। जनवरी के महज 23 दिनों में जिले के सरकारी कार्यालयों में कार्य करने वाले 880 अधिकारी व कर्मचारी के अलावा ओमिक्रोन के 9 और कोरोना के कुल 7474 नए केस सामने आए।

ओमिक्रोन के सभी मरीज स्वस्थ हो चुके हैं और कोरोना संक्रमितों में 3571 मरीजों ने खुद को होम क्वारंटाइन करके संक्रमण से जंग जीतने का काम किया। जनवरी की 22 तारीख में अब तक सबसे अधिक 107 सरकारी विभाग के अधिकारी व कर्मचारी संक्रमित आए। कोरोना वायरस का संक्रमण अब सरकारी विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों में अधिक देखने को मिल रहा है। महज 22 दिन में 866 कर्मचारी से लेकर अधिकारी संक्रमित हुए। संक्रमित सरकारी कर्मियों के राहत की बात रही कि उन्हें अस्पताल में इलाज नहीं कराना बल्कि होम आइसोलेट होकर कोविड प्रोटोकाल के तहत इलाज कराकर स्वास्थ्य हो रहे हैं।

10 महीने के नवजात की कोरोना से मौत, प्रोटोकाल में दफनाया

अंबाला छावनी के राम किशन कालोनी के सुरेंद्र का 10 महीने का बच्चा कोरोना से संक्रमित हो गया। उसे इलाज के लिए चंडीगढ़ पीजीआई दाखिल किया गया था। सोमवार को चिकित्सकों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया। इसके बाद बच्चे के शव को कोविड प्रोटोकाल में छावनी के रामबाग श्मशान घाट में दफनाया गया। हालांकि जिला स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों में कोरोना से बच्चे की मौत का कोई जिक्र नहीं है।

परिवार के 1740 सदस्यों की रिपोर्ट निगेटिव

सरकारी विभागों में कार्य करने वाले कर्मचारियों के संक्रमित होने की पुष्टि होने पर उन्होंने परिवार और संपर्क वाले 1740 लोगों के सैंपल कराए। इसमें राहत की बात रही कि इसमें संपर्क वाले कोई अधिक संक्रमित नहीं मिले। हालांकि मौसम में बदलाव के कारण थोड़ा बुखार और सर्दी की शिकायत जरूर मिली, लेकिन वह चिकित्सक के परामर्श और दिए गए दवा से महज तीन से चार दिनों में स्वस्थ हो गए।

डिलीवरी से पहले 13 गर्भवती भी संक्रमित

जनवरी महीने में नागरिक अस्पताल छावनी और शहर के अस्पताल में डिलवरी के पहुंची गर्भवती महिलाओं का एंटीजन किट से कोरोना की जांच हुई। इसमें 13 गर्भवती में कोरोना संक्रमण मिले। संक्रमण की पुष्टि होने पर उन्हें अस्पताल के अलग रूम में रखकर प्रोटोकाल के तहत इलाज करके स्वास्थ्य करने के बाद सकुशल डिलीवरी भी कराई गई।

तेजी से फैल रहा कोरोना का नया वैरिएंट

सिविल सर्जन डा. सुखप्रीत सिंह ने बताया कि पब्लिक डीलिंग से जुड़े अधिकारी और कर्मचारी काफी संख्या में संक्रमित मिल रहे हैं। इसकी मुख्य वजह कोरोना के नए वैरिएंट का प्रसार काफी तेजी से होना है। ऐसे में अगर किसी को भी कोरोना के लक्षण मिले तो वह सबसे पहले जांच कराकर रिपोर्ट आने तक होम आइसोलेट कर ले, अगर निगेटिव रिपोर्ट आती है तभी वह काम पर जाएं।

Edited By: Rajesh Kumar