पानीपत/कैथल, [सुरेंद्र सैनी]। MonkeyPox Alert: स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने अलर्ट जारी कर दिया गया है। मंकी पाक्‍स की बीमारी के बढ़ते खतरे को देखते हुए विभाग ने चेतावनी जारी की। विभाग ने कहा कि अगर किसी में रोग की पुष्टि हो तो तुरंत उसकी सूचना दें।

कोरोना महामारी के बाद अब मंकी पाक्स बीमारी का खतरा बढ़ गया है। इसे लेकर केंद्र व राज्य सरकार की तरफ से एडवाइजरी जारी करते हुए स्वास्थ्य विभाग के जिला नागरिक अस्पताल, सामुदायिक व उप स्वास्थ्य केंद्रों के स्टाफ को अलर्ट जारी किया है। विदेशों में केस सामने आने के बाद प्रशासन सतर्क हो गया है। वहीं, चिकित्‍सकों का कहना है कि अगर किसी में भी मंकी पाक्‍स के लक्षण सामने आएंं तो तुरंत स्‍वास्‍थ्‍य विभाग को सूचित कर दें। अगर आसपास भी किसी को शरीर में दानें, गांठे या अन्‍य संबंधित लक्षण नजर आएं तो सूचित करें। 

क्या है मंकी पाक्स वायरस

मंकी पाक्स वायरस मुख्य रूप से चूहे और खरगोश जैसे जानवरों से फैलता है, जानवरों से होकर इंसानों में यह वायरस तेज गति से फैलता है। यह बीमारी संक्रमित मरीज के छुआछूत और उसके उपयोग किए बिस्तरों और कपड़ों के उपयोग से फैलता है, वहीं यदि मंकी पाक्स संक्रमित जानवर किसी व्यक्ति को काटता है, तब भी उसके संक्रमित होने की संभावना बढ़ जाती है।

ये हैं बीमारी के लक्षण

यदि कोई व्यक्ति मंकी पाक्स बीमारी से संक्रमित हो जाता है, तो उसे लक्षण 5 से 10 दिनों में दिखने शुरू हो जाते हैं, जिसमें उसे बुखार, बदन दर्द और उल्टी-दस्त, शरीर पर दाने होना, गांठें बन जाना सहित कुछ दिनों बाद पपड़ी बनकर समाप्त हो जाते है। इस तरह के लक्षण यदि किसी व्यक्ति में नजर आते हैं तो नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर इसकी जांच करवाएं, ताकि जांच होने पर बीमारी का सही पता चल सके। वहीं इस बीमारी से बचाव को लेकर सावधानी बरतने की जरूरत है।

Edited By: Anurag Shukla