पानीपत, [विजय गाहल्याण]। सोनीपत के भूपेंद्र सिंह दहिया और पूर्व विधायक सतविंद्र सिंह राणा ने शराब तस्करी को कमाई का अहम जरिया बनाया। अब ये दोनों ही पानीपत जेल में हैं। इन्हीं के नक्शे कदम पर जेल में बैठे गैंगस्टर भी चल रहे हैं। वे शराब तस्करी से रुपये कमाना चाहते हैं। जेल में रहकर अपने भाई व दोस्तों से शराब की तस्करी करवाते हैं। जो शराब ठेकेदार विरोध करते हैं, उन पर गोली चलवा देते हैं। गैंगस्टर के नाम से ठेकेदारों से मंथली मांगी जाती है। खौफ की वजह से कई ठेकेदार पुलिस को शिकायत देने की बजाय समझौता कर लेते हैं। गैंगस्टरों के खिलाफ पुलिस के पास पुख्ता सुबूत नहीं होते हैं। इसी वजह से ही वे जेल से गैंग चला रहे हैं। पुलिस भी बाहर घूम रहे बदमाशों को पकडऩे में बेबस नजर आती है।  ठोस सुबूत न होने के कारण बदमाश कानून के चुंगल से छूट जाते हैं। 

 

केस-1 : गैंगस्टर के भाई ने ठेकेदार से मांगी मंथली 

सिवाह का गैंगस्टर प्रसन्न उर्फ लंबू कादियान जींद जेल में है। उसके छोटे भाई कृष्ण पर शराब तस्करी व ठेकेदारों को धमकी देने का आरोप है। शराब ठेकेदार सैनी कॉलोनी के प्रदीप ने आरोप लगाया कि कृष्ण अपने साथी संजय कादियान, राकेश और अमित के साथ मिलकर शराब की तस्करी करता है। उन्हें रोका तो गोली मारने की धमकी दी और मंथली मांगी। चारों के खिलाफ मॉडल टाउन थाने में मामला दर्ज है।   

 

केस-दो : शराब ठेकेदार व उसके भाई को मार दी थी गोली

खलीला गांव के शराब ठेकेदार अजीत ने आरोप लगाया कि गैंगस्टर लंबू एक साल में 20 लाख रुपये मांग रहा था। उसने रुपये देने से इन्कार किया तो 14 दिसंबर 2019 को लंबू के गुर्गों ने अजीत और उसके भाई सुरेंद्र को गोली मार दी। अजीत की लंबू के खिलाफ कोर्ट में गवाही से पहले हुई थी। समालखा थाने में लंबू सहित आठ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। 

केस-3 : गैंगस्टर जेल से मोबाइल फोन से गुर्गों को भेजता था संदेश 

गैंगस्टर सिवाह गांव के राकेश उर्फ पंपू व उसके साथी सुल्तान, रहीश और राकेश उर्फ फौजी से दो मोबाइल फोन मिले थे। सेक्टर-29 थाने में मामला दर्ज है। इस मामले की जांच सीआइए-टू कर रही है। पुलिस अभी तक पता नहीं कर पाई कि बदमाशों के पास फोन किसने पहुंचाए थे। गैंगस्टर फोन के जरिये गुर्गों को संदेश पहुंचा रहा था। 

 

यहां हो रही है शराब की तस्करी

शहर में तस्करों ने अवैध शराब बेचने के जगह-जगह ठिकाने बना रखे हैं। काबड़ी गांव, काबड़ी रोड, हरिनगर, अर्जुन नगर, कच्चा कैंप, विकास नगर, नांगल खेड़ी, नूरवाला, वधावाराम कॉलोनी, तहसील कैंप, सब्जी मंडी, माट चौक, और गंगापुरी रोड पर अवैध शराब बिकती है।

एसपी मनीषा चौधरी की ओर से जिले के सभी थाना व चौकी प्रभारियों के आदेश दिए गए हैं कि शराब तस्करी रोकी जाए। तस्करों को गिरफ्तार किया जाए। सरकारी शराब के ठेकेदारों को भरोसा दिलाया जाए कि वे घबराएं नहीं। 

सतीश कुमार वत्स, डीएसपी मुख्यालय 

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस