जागरण संवाददाता, पानीपत : आइपीएस मनीषा चौधरी ने मंगलवार को जिले की 37वीं पुलिस कप्तान की कमान संभाल ली। उन्होंने कार्यभार संभालते ही कार्यालय में फरियादियों की शिकायतें सुनीं। अधिकारियों को निर्देश दिए कि शिकायतों को निपटान थानों व चौकियों में हो जाना चाहिए। ज्यादा फरियादी उनके पास पहुंचेंगे तो यह माना जाएगा कि थानों में काम ठीक से नहीं हो रहा है। उनकी पहली प्राथमिकता महिला विरूद्ध अपराध की रोकथाम करना है। पीड़ितों को न्याय दिलाना है। अवैध शराब व नशे से धंधेबाजों पर शिकंजा कसा जाएगा। अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस के प्रति आमजन में विश्वास बना रहे इसके लिए भ्रष्टाचार को खत्म किया जाएगा। काम करने वाले पुलिस कर्मचारियों व अधिकारियों को शाबासी दी जाएगी। लापरवाही बरतने पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने ने कार्यालय में स्थित सभी ब्रांचों के प्रभारियों को आदेश दिए कि रिकॉर्ड को दुरुस्त रखें। शिकायत का मौका नहीं मिलना चाहिए। 2011 बैच की आइपीएस मनीषा चौधरी हिसार सहित कई जिलों में एसपी रह चुकी हैं। पहले वे क्राइम अगेंस्ट वूमेन पंचकूला की एसपी भी रही हैं। पुष्प गुच्छ से किया एसपी का स्वागत

नवनियुक्त एसपी मनीषा चौधरी का डीएसपी ने पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया गया। इस मौके पर डीएसपी सतीश कुमार वत्स, डीएसपी पूजा डाबला, डीएसपी समालखा प्रदीप कुमार, डीएसपी बिजेंद्र सिंह, डीएसपी संदीप सिंह, और डीएसपी राजेश फोगाट मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021