पानीपत/यमुनानगर, जेएनएन। रादौर विधानसभा सीट पर भाजपा की हार का मंथन करने पहुंचे गृह, स्वास्थ्य व शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज ने कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोली। उनके समक्ष कार्यकर्ताओं ने बेबाक होकर अपने मन की बात रखी। जमकर भड़ास निकाली। 

इस दौरान उनके सामने पूर्व मंत्री कर्णदेव कांबोज व पूर्व विधायक श्याम सिंह राणा दोनों नेताओं पर अनदेखी के भी आरोप लगाए। जनता के काम न होने की बात कही गई। हड़तान के विजय शर्मा ने कहा कि दोनों नेताओं ने मंजे तोड़े, लेकिन काम नहीं हुए। 

अनदेखी का आरोप

नगरपालिका पार्षद भगवतदयाल कटारिया ने कहा कि सरकार में भाजपा कार्यकर्ताओं के काम नहीं हो पा रहे है। पार्टी संगठन इस ओर ध्यान दें, जिससे भाजपा कार्यकर्ताओं का मान सम्मान बढ़ सके। अधिकतर कार्यकर्ताओं ने बैठक में उनकी अनदेखी होने और उनके काम न होने की दुहाई दी।

हाईकमान तक पहुंचाएंगे बात

विज ने कहा कि मैंने हर कार्यकर्ता के दिल की बात सुनीं। उनके मन की बात भी समझी जो कहना चाहते थे, लेकिन किसी कारण से शब्द जुबां तक नहीं आए। यह आवाज हाईकमान तक पहुंचाई जाएगी। विधानसभा सीट की हार के सभी कारणों पर मंथन होगा। जहां खामियां रहीं, उनको दूर किया जाएगा। कर्णदेव कांबोज अपने आपको हारा हुआ न मानें, बल्कि खुद को एमएलए समझें। सरकार की ओर से उनको पूरा सहयोग मिलेगा। जिन लोगों ने पार्टी के साथ विश्वासघात करते हुए भीतरी घात किया है, उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा। विज ने सरस्वती नगर में आयोजित समीक्षा बैठक के दौरान भी कार्यकर्ताओं से बातचीत की।

विधायकों की संख्या कम होना चिंता का विषय

समीक्षा बैठक में विज ने कहा कि इस बार हमारी वोट प्रतिशतता जरूर बढ़ी है लेकिन हमारे विधायकों की संख्या कम है। पिछली बार हम 47 थे। इस बार कम होकर 40 रह गए हैं। सरकार को समझौता करना पड़ा। नीचे से उपर तक चिंता का विषय है कि हमारे विधायकों की संख्या कम क्यों हुई? 

हर कार्यकर्ता को मिलेगा सम्मान

कुछ कार्यकर्ताओं ने यह भी बात कही कि पार्टी में उनको सम्मान मिलना चाहिए। इस बात से मैं सहमत हूं। मुझे अपनी पार्टी के नेतृत्व पर विश्वास है कि हर कार्यकर्ता को सम्मान दिया जाएगा। जो भी नीतियां सरकार बनाएगी, वह कार्यकर्ताओं के माध्यम से ही जनता तक पहुंचेगी। 

ये भी बात आई सामने 

दरअसल, इस सीट पर भाजपा ने पूर्व विधायक श्याम सिंह राणा की टिकट काटकर इंद्री से विधायक व राज्यमंत्री रहे कर्णदेव कांबोज को टिकट दिया। कांबोज को टिकट दिए जाने पर राणा व उनके समर्थकों में नाराजगी थी। चुनाव के बाद एक वीडियो भी वायरल हुई, जिससे ये नाराजगी खुलकर मैदान में आ गई। तब से दोनों में तनातनी चल रही है। नतीजों के बाद कर्णदेव ने श्याम सिंह पर पार्टी में भितरघात के आरोप लगाए थे।

Posted By: Anurag Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप