करनाल, जागरण संवाददाता। मानसून ने हरियाणा में लोगों को गर्मी से निजात दिलाई। हरियाणा में मानसून ने 48 घंटे पहले ही दस्‍तक दे दी। अब कई शहरों में अच्‍छी बार‍िश का भी अनुमान जताया जा रहा हैै। अभी रुक-रुककर हल्‍की बारिश होती रहेगी।

मानसून सभी राज्यों में पहुंच गया है। इसकी शुरुआत की यात्रा समय से पहले पूरी होने की उम्मीद है। अभी तक गुजरात और मध्य प्रदेश का एक छोटा सा हिस्सा ही बचा है। दो दिन पूरे देश और सभी हिस्सों में विशिष्ट क्षेत्रों में मौसम के सबसे अधिक बारिश के समय के रूप में दर्ज किए गए। 30 जून को देशभर में 10.6 मिमी की पहली दोहरे अंक में बारिश दर्ज की गई, जो 7.6 मिमी के दैनिक सामान्य औसत के मुकाबले दर्ज की गई थी। इस बारिश के चलते जून की कमी मासिक औसत के 10 प्रतिशत से घटाकर आठ प्रतिशत कर दी गई। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, ओडिशा, छत्तीसगढ़, तटीय आंध्र प्रदेश, पश्चिमी घाट और पूर्वोत्तर भारत में सक्रिय मानसून की स्थिति जारी रहेगी।

मानसून राजस्थान, मध्य प्रदेश, दक्षिण गुजरात, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक, तटीय आंध्र प्रदेश, सिक्किम, उप हिमालयी पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर भारत में सक्रिय रहेगा। तीन जुलाई से बंगाल की उत्तरी खाड़ी और तटीय भागों में मानसून परिसंचरण के गठन की दिशा में स्थितियां बन रही हैं। यह विशेषता देश के कई हिस्सों में जुलाई की पहली छमाही के दौरान सक्रिय मानसून की स्थिति जारी रखने का वादा करती है। मध्य प्रदेश, कोंकण, गुजरात और दक्षिण राजस्थान में लगभग एक सप्ताह बाद भारी बाढ़ की बारिश होने की संभावना है।

देशभर में यह बना हुआ मौसमी सिस्टम

इस समय पंजाब से पूर्वी पश्चिम टर्फ रेखा हरियाणा, दक्षिण उत्तर प्रदेश, पूर्वोत्तर मध्य प्रदेश, उत्तरी छत्तीसगढ़, झारखंड और पश्चिम बंगाल होते हुए बंगाल की खाड़ी के उत्तर पश्चिम तक फैली हुई है। दक्षिण गुजरात तट से उत्तरी कर्नाटक तट तक एक अपतटीय टर्फ रेखा बनी हुई है। पश्चिम मध्य अरब सागर के ऊपर एक चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्री अवकाश से 3.1 से 5.8 किमी ऊपर है। यह ऊंचाई के साथ दक्षिण की ओर झुका हुआ है।

Edited By: Anurag Shukla