कुरुक्षेत्र, जागरण संवाददाता। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला शनिवार को कुरुक्षेत्र के गीता जयंती महोत्‍सव में पहुंचे। उनके साथ सीएम मनोहर लाल, भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय और गीता मनीषी ज्ञानानंद महाराज भी पहुंचे। सभी अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव कार्यक्रम में शामिल हुए। लोस अध्यक्ष ओम बिरला सुबह 9:45 बजे नई दिल्ली से हवाई मार्ग से 10:25 बजे अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पहुंचे। इसके बाद सड़क मार्ग से सुबह 11:30 बजे कुरुक्षेत्र स्थित गीता ज्ञान संस्थान पहुंचे।

युवा चेतना कार्यक्रम में लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने कहा कि कुरुक्षेत्र की धरती पूरे विश्व को जीवन जीने की राह दिखाती है। जब भी कोई व्यक्ति उलझनों में होता है तो गीता ही उसको सही रास्ता दिखाती है। गीता के छोटे से सार में हमारे जीवन के हर संशय को दूर कर सकते हैं। 5000 वर्ष से ज्यादा होने बाद भी गीता का ज्ञान उतना ही प्रासंगिक है। मौजूदा तकनीक के युग में हमारा नौजवान बौद्धिक रूप से तो मजबूत है लेकिन हमें उसे आध्यात्मिक रूप से भी मजबूत करना होगा। गीता किसी धर्म, भाषा, संप्रदाय की नहीं बल्कि मानव मात्र की है। मैं मुख्यमंत्री मनोहर लाल को भी बधाई देता हूं कि वे हरियाणा को आध्यात्मिक और पर्यटन की धरती बना रहे हैं।

ओम बिरला दोपहर को दो बजे कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के आडिटोरियम में आयोजित अंतरराष्ट्रीय गीता सेमिनार में शामिल हुए। इसके बाद शाम को ज्योतिसर औरहरियाणा पवेलियन गए। वह यहां महाआरती में भाग लेंगे और फिर पुरुषोत्तमपुरा बाग में आयोजित सांस्कृतिक समारोह में भी शामिल होंगे। वे देर सायं अंबाला के लिए रवाना होंगे। यहां से हवाई मार्ग से दिल्ली जाएंगे।

लोक सभा स्‍पीकर ओम बिरला और मुख्यमंत्री मनोहर लाल पहुंचे। जिओ गीता सभागार का लोकार्पण किया। इसके बाद गीता संग्रहालय का अवलोकन किया। उन्होंने संग्रहालय के थीम की सराहना की। गीता संग्रहालय में गीता मनीषी ज्ञानानंद महाराज ने लोस अध्यक्ष ओम बिरला और मुख्यमत्री मनोहर लाल को गीता ज्ञान संस्थानम के मॉडल के बारे में जानकारी दी। अब युवा सम्मेलन में पहुंचे। गीता ज्ञान संस्थानम में युवा सम्मेलन शुरू हो गया है।

भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि लोकसभा स्‍पीकर ओम बिरला की धर्मपत्नी डाॅक्‍टर अनिता बिरला बहुत अच्छा खाना बनाती हैं। मुख्यमंत्री बोले आज ही हमे न्योता मिला है। आतंकवाद और अलगाववाद को गीता से खत्म किया जा सकता है। विश्व के देशों को गीता से सीख लेनी चाहिए।

Edited By: Anurag Shukla