पानीपत, जेएनएन। निर्दयी पिता प्रमोद ने इकलौते बेटे यश की जान ले ली। मासूम बेटा दंपती की तकरार की भेंट चढ़ गया। प्रमोद कश्यप और साक्षी का रिश्ता झूठ और फरेब की बुनियाद पर टिका था। दोनों की फेसबुक पर दोस्ती हुई और परिजनों से बगावत कर प्रेम विवाह किया था। साथ जीने की कसमें खाई थी। पांच साल में ही सब तार-तार हो गया। दोनों को एक-दूसरे की सच्चाई का पता लगा तो मारपीट होने लगी। तीन महीने से तो दोनों की बीच तल्खी ज्यादा बढ़ गई थी। नौबत तलाक तक आ पहुंची। साक्षी ने तलाक मांगा तो प्रमोद को नागवार गुजरा। सलाखों में बैठा प्रमोद पछता रहा था। उधर, यश की मां साक्षी विलाप करते हुए पति को कोस रही थी। 

टीडीआइ सिटी के फ्लैट में सुबह पत्‍नी साक्षी से विवाद के बाद प्रमोद ने पौने तीन साल के इकलौते बेटे को फंदे पर लटका कर मार डाला। उसने खुद को भी फंदा लगाया, लेकिन रस्सी टूटने से उसकी जान बच गई। इसके बाद साले और पुलिस को फोन कर कहा कि उसने बेटे को मार डाला। 

गहने और रुपये लेकर भाग गई थी साक्षी

साक्षी के दादा जरनैल सिंह ने बताया कि 2014 में पोती अंबाला में जेबीटी द्वितीय वर्ष में पढ़ रही थी। सभी परिजनों की चहेती थी और विश्वास भी पूरा था। 1 दिसंबर 2014 को परिजन लाडवा में शादी समारोह में थे। निर्माणाधीन कोठी में वह और साक्षी थे। साक्षी घर से आठ लाख रुपये व सोने के जेवर ले गई और वापस नहीं लौटी। पोती की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई। 

प्रेम विवाह कर परिजनों पर करा दिया था धमकी देने का केस दर्ज

बाद में उन्हें पता चला कि साक्षी ने पानीपत की हनुमान कॉलोनी के प्रमोद कश्यप से कुरुक्षेत्र में वकील की मौजूदगी में शादी कर ली। कोर्ट में पेश होकर उनके परिवार के इंजीनियर व सरकारी नौकरी पर लगे कई लोगों के खिलाफ जान का खतरा बताकर पुलिस को शिकायत दे दी। दोनों शेल्टर होम में रहे। विवाद न बढ़ जाए इसी वजह से उन्होंने पोती से किनारा कर लिया। 2018 में साक्षी घर आई थीं। तब उसने बताया था कि प्रमोद ने धोखा दिया है। घर से लेकर गई आठ लाख रुपये और ज्वाइंट खाते से चार लाख रुपये लेकर प्रमोद ने प्लॉट लिया। इस प्लॉट को प्रमोद ने भाई को दे दिया। तीन महीने पहले भी प्रमोद ने साक्षी को पीटा। इसके बाद घर से निकालकर साक्षी व यश को टोल प्लाजा पर छोड़ आया। अब प्रमोद ने नाती का भी कत्ल कर दिया। 

अक्सर होता था झगड़ा, पड़ोसियों से नहीं रखते थे संबंध

पड़ोस की कई महिलाओं ने बताया कि प्रमोद और साक्षी में अक्सर झगड़ा होता था। उनका कोई भी बीच-बचाव नहीं करता था। न ही कोई रिश्तेदार आता था। साक्षी बेटे को स्कूल साथ लेकर जाती थी। दंपती पड़ोसियों से वास्ता नहीं रखता था। पड़ोसी भी उनसे बातचीत नहीं करते थे। प्रमोद रक्षाबंधन पर घर आया था और दो घंटे बाद विवाद करके लौट गया। यश की मौत से पड़ोसी भी सन्न हैं।

  • ये भी जानें
  • 05 साल पहले दोनों में फेसबुक पर हुई थी पहचान
  • आठ लाख रुपये और लाखों के जेवर लेकर घर से आई थी साक्षी
  • पड़ोसियों से भी ज्यादा वास्ता नहीं रखता था दंपती
  • अक्सर दोनों में होता था झगड़ा, रिश्तेदार भी नहीं आते थे
  • 03 महीने से प्रमोद और साक्षी में बढ़ गई थी तल्खी
  •  दंपती विवाद में ये हो चुकी हैं घटनाएं
  • 12 मई को मॉडल टाउन के शांति नगर में राजू ने पत्नी आशा की हत्या कर दी। 
  • 31 जुलाई को उरलाना कलां में रोहताश ने पत्नी सुमन की तलवार से वार कर हत्या कर दी। 
  • 17 अगस्त को पत्नी से विवाद होने के बाद अंसल सुशांत सिटी में रमेश ने जहर खाकर जान दे दी। 
  • 4 सितंबर को फार्मासिस्ट मॉडल टाउन के कर्मबीर ने पत्नी से विवाद में जहर का इंजेक्शन लगाकर जान दे दी
  • 3 सितंबर को बिंझौल में मायके में प्रीति ने पति से तंग होकर फंदा लगा लिया। 

4 सितंबर को पत्नी से विवाद होने पर वधावाराम कॉलोनी के अजीत ने फंदा लगा लिया। 

12 सितंबर को बापौली के राजू ने ईंट से हमलाकर पत्नी मंजू की हत्या कर दी।

Posted By: Anurag Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप