संवाद सहयोगी, इंद्री (करनाल)। करनाल के इंद्री क्षेत्र के गांव भादसों में दिल दहलाने वाले घटना से इलाके में सनसनी फैल गई। यहां रहने वाले एक व्यक्ति ने अपने दो मासूम बच्चों को फांसी के फंदे पर लटका दिया और इसके बाद खुद भी फंदे पर झूल गया। तीनों की मौत की खबर पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू की। स्वजनों के मुताबिक आत्मघाती कदम उठाने वाले व्यक्ति की पत्नी ने कुछ दिन पूर्व अपने ही पड़ोसी से शादी कर ली थी। आरोप है कि उक्त महिला और उसका मौजूदा पति उसे लगातार धमकिया भी दे रहे थे। इसे लेकर वह लगातार तनाव में था। 

वाकया शनिवार देर शाम का है। इंद्री थाना पुलिस को सूचना मिली की भादसों गांव में एक व्यक्ति ने अपने दोनों बच्चों के साथ खुद भी फांसी लगा ली है। एसएचओ सचिन ने टीम के साथ मौके पर पहुंचकर शव उतारे और जांच पड़ताल शुरू की। उन्होंने बताया कि यह कदम उठाने वाले व्यक्ति का नाम 32 वर्षीय सुखविंदर है। जबकि उसके बच्चों के नाम करीब चार वर्षीय हिमांशु और करीब सात वर्षीय कीर्ति हैं। सुखविंदर शुगर मिल में काम करता था। पुलिस के अनुसार प्राथमिक जांच पड़ताल के दौरान मृतक के स्वजनों ने बताया है कि सुखविंदर के घर के सामने एक अन्य जाति का युवक रहता था। उसके साथ कुछ समय पहले सुखविंदर की पत्नी के संबंध हो गए थे।

25 जून को पत्नी को भगा ले था युवक

25 जून को उक्त युवक उसकी पत्नी को कुंजपुरा थाना क्षेत्र से भगाकर ले गया था। इसकी एफआइआर थाने में दर्ज है। इसके बाद उसकी पत्नी और उक्त युवक अदालत में पेश हुए थे, जहां उन्होंने यह बयान दिया था कि उन्होंने शादी कर ली है। उसकी पत्नी ने कहा था कि वह स्वेच्छा से पति को छोड़कर आई है। इस बाबत उनकी ओर से हाइकोर्ट में भी याचिका लगाई थी कि वे शादीशुदा हैं और उन्हें साथ रहने की इजाजत दी जाए। स्वजनों के अनुसार सुखविंदर की पत्नी को भगाने वाला युवक अविवाहित था। दोनों की ओर से अदालत में बयान लिखवाए जाने के बाद इस मामले में छह अगस्त को सुनवाई होनी है। इसे लेकर सुखविंदर लगातार तनाव में चल रहा था। 

मिल रही थीं धमकियां...

एसएचओ ने बताया कि स्वजनों ने आरोप लगाया है कि सुखविंदर की पत्नी को भगाकर ले जाने वाले व्यक्ति ने उससे शादी कर ली है और उसकी ओर से सुखविंदर को लगातार धमकियां भी दी जा रही थीं कि वह जल्द न केवल गांव लौटेंगे बल्कि अदालत के जरिए उससे दोनों बच्चों को भी ले लेंगे। दोनों परिवारों के घर आमने-सामने हैं। ऐसे में सुखविंदर लगातार ग्लानि अनुभव कर रहा था, जिसके बाद उसने यह आत्मघाती कदम उा लिया। एसएचओ ने बताया कि मामले की तमाम पहलुओं से जांच की जा रही है। तीनों शव पोस्टमार्टम के लिए करनाल के कल्पना चावला मेडिकल कालेज भिजवा दिए गए हैं। एफएसएल की टीम भी मामले की जांच कर रही है। 

फोन और सामान की जांच 

गांव में पेश आए इस सनसनीखेज वाकये की खबर जंगल में आग की तरह फैल गई। घटनाक्रम में दो मासूम बच्चों की मौत से हर कोई दुखी नजर आया। वहीं पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। इसके तहत मृतक सुखविंदर की फोन काल की डिटेल निकलवाने के अलावा घर में रखे सामान की भी पड़ताल की जा रही है। एसएचओ सचिन ने बताया कि फिलहाल मृतक के पास से कोई सुसाइड नोट या ऐसा साक्ष्य नहीं मिला है, जिससे स्पष्ट हो कि उसने यह कदम किन हालात में उठाया ? मृतक के स्वजनों ने उसकी पत्नी और उसे भगाकर ले जाने वाले युवक पर आरोप लगाए हैं, जिनकी जांच की जा रही है।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Edited By: Umesh Kdhyani