यमुनानगर, जागरण संवाददाता। ऐलनाबाद उपचुनाव में मिली करारी हार पर मंथन करने के लिए प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने चंडीगढ़ में कांग्रेस विधायकों की मीटिंग बुलाई है। इस मीटिंग को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा का कहना है कि हुड्डा साहब ऐसी मीटिंग बुलाते रहते हैं। उपचुनाव में पार्टी की हार पर चर्चा करने के लिए जल्द ही कार्यकारिणी की बैठक बुलाई जाएगी। इस उपचुनाव में प्रदेश सरकार ने पैसे व सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया है। इनेलो ने भले यह चुनाव जीत लिया हो लेकिन उनका वोट पहले से घटा है। यह बात कुमारी सैलजा ने सोमवार को त्यागी गार्डन में एडवोकेट साहब सिंह गुर्जर के आवास पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कही। वह साहब सिंह व उनके भाई कांग्रेस प्रवक्ता प्रो. राय सिंह के के पिता के निधन पर शोक जताने पहुंची थी।

सरकारी नौकरी में भी होना चाहिए आरक्षण

सैलजा ने निजी क्षेत्र की 30 हजार रुपये तक की नौकरियों में प्रदेश के युवाओं को 75 प्रतिशत आरक्षण देने को छलावा बताते हुए कहा कि आरक्षण सरकारी नौकरियों में भी होना चाहिए। परंतु भाजपा व जजपा सरकार सरकारी नौकरियों में दूसरे राज्यों के युवाओं को भर्ती कर रही है। क्या प्रदेश में पढ़े लिखे युवा नहीं है। भाजपा व जजपा केवल अपने कल्याण के लिए ही योजनाएं बनाते हैं। भाजपा सांसद अरविंद शर्मा के आंख निकालने व हाथ काटने के ब्यान पर सैलजा ने कहा कि भाजपा हमेशा समाज में दरार पाटना चाहती है। लोगों को भड़काने के लिए जानबूझ कर ऐसे ब्यान देते रहते हैं।


सरकार किसानों को परेशान करती रहती है

हर साल जब भी फसल बिजाई का सीजन आता है सरकार कोई न कोई बहाना बनाकर किसानों को परेशान करती है। इस वक्त डीएपी खाद के लिए लोगों को आधी रात को लाइनों में लगना पड़ रहा है। ऐसा वक्त भी आया था जब थानों में खाद बिका था। पांच राज्यों में आगामी विधानसभा चुनावों पर सैलजा ने कहा कि हर राज्य की स्थिति अलग हाेती है। वहां की स्थितियों को देखते हुए ही कांग्रेस राणनीति बनाकर चुनाव में उतरेगी। पेट्रोल, डीजल की कीमतों पर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि कटौती के बाद भी जो रेट हैं वह बहुत ज्यादा हैं। इनमें ओर कमी होनी चाहिए। किसान आंदोलन पर सैलजा ने कहा कि सरकार को किसानों की चिंता नहीं है। किसान एक साल से खुले आसमान के नीचे बैठा है।

फसल का लागत मूल्य बढ़ा है

गन्ने की कीमतों में वृद्धि पर सैलजा ने कहा कि गन्ने कीमत स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के आधार पर फार्मूला बनाकर तय होनी चाहिए ताकि किसान को नुकसान न हो। क्योंकि फसल का लागत मूल्य बढ़ रहा है। मौके पर साढौरा विधायक रेणू बाला, पूर्व डिप्टी स्पीकर अकरम खान, देवेंद्र चावला, श्याम सुंदर बतरा, भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष सुभाष गुर्जर, एडवोकेट साहब सिंह गुर्जर, प्रो. राय सिंह, सचिन शर्मा, नरपाल गुर्जर मौजूद रहे।

Edited By: Rajesh Kumar