अंबाला, जागरण संवाददाता। नगर निगम की घर-घर जाकर जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र की सर्विस फेल हो गई। हालांकि नगर निगम ने लाकडाउन में निगम ने लोगों की सुविधा के लिए शुरू की थी। इसके लिए निगम कर्मी की प्रमाण पत्र के लिए घर पर पहुंच जाती थी। इसके लिए 100 रुपये शुल्क लिया जाता था। अब डोर-टू-डोर सर्विस को बंद कर दिया था।

मालूम हो कि कोरोना की दूसरी लहर में लाकडाउन होने पर निगम ने लोगों की सुविधा के लिए प्रमाण पत्रों के लिए डोर-टू-डोर सर्विस को शुरू किया था। इसके लिए निगम ने दो ट्राल फ्री नंबर भी जारी किए थे। इन नंबर पर फोन करने पर निगम कर्मी प्रमाण पत्र बनाने के लिए घर पहुंच जाता थे। यहां से व्यक्ति के डोक्यूमेंट लेकर कर्मचारी प्रमाण पत्र के लिए कार्यालय में जमा करते थे। इसके बाद प्रमाण पत्र जारी होने पर कर्मी फोन कर जानकारी भी देते हैं। अब नगर निगम में काउंटर खुलने से लोग काउंटर पर ही प्रमाण पत्र के लिए पहुंच रहे हैं। इस वजह से नगर निगम ने डोर-टू-डोर सर्विस को बंद कर दिया। इस संबंध में सीपीओ दिनेश राणा ने बताया कि नगर निगम में लोग प्रमाण पत्र के लिए पहुंच रहे हैं। इस वजह से डोर-टू-डोर के लिए लोग नहीं आ रहे थे। इस वजह से निगम ने सर्विस को बंद कर दिया।

प्रमाण पत्र के लिए काउंटर सुविधा शुरू

नगर निगम ने जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र, हाउस टैक्स और विवाह पंजीकरण काउंटर को अलग कर दिया। ऐसे में निगम में आने वाले लोग सीधे काउंटर से प्रमाण पत्र बनवा लेते हैं। यहां पर लोगों के बैठने के लिए कुर्सियां भी लगी है।

Edited By: Anurag Shukla