जागरण संवाददाता, पानीपत :

स्वामी प्रीतमानंद ने कहा कि गिरीराज भगवान की परिक्रमा करने से सभी दुख दूर हो जाते हैं। जीवन में कुछ भी साथ नहीं जाता। ईश्वर भजन, सत्कर्म और भगवान की भक्ति में ही जीव का कल्याण संभव है। सदैव ईश्वर का गुणगान करते रहें।

स्वामी प्रीतमानंद असंध रोड स्थित अखंड आश्रम में चल रही भागवत कथा सुना रहे थे। कथा में पांचवें दिन बाल लीला, माखन चोरी, रासलीला एंव गिरी राज का पूजन किया गया। बाल लीला देखने के लिए आसपास के सैकड़ों लोग पहुंचे। कथा स्थल को सजाया गया था। बीच-बीच में गाए गए भक्ति पूर्ण गीतों पर लोग झूमते रहे। कथा में मुख्य यजमान विनय धमीजा रहे। कथा सुनने वालों में मुख्य रूप से पूजा, सोनम, शिवांगी, सुमित ठकराल, सुमित ठकराल मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस