पानीपत/यमुनानगर, जेएनएन। अंबाला के मनका गांव (प्रेमनगर डेरा) निवासी मलकीत उर्फ बंटी की हत्या के दोषी बिक्कमपुर गांव निवासी रङ्क्षवद्र व सतबीर को कोर्ट ने कठोर उम्रकैद व 10-10 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है। 

ये फैसला जिला एवं सत्र न्यायधीश बिमलेश तंवर की कोर्ट ने सुनाया है। कोर्ट में करीब दो साल चली सुनवाई के दौरान दर्जन भर लोगों की गवाही हुई। दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने उपरोक्त फैसला सुना दिया। 

खेतों में पड़ा मिला था शव 
13 जनवरी 2017 को (प्रेमनगर डेरा) निवासी मलकीत उर्फ बंटी का शव छप्पर के गांव सुल्तानपुर के खेतों में मिला था। शव पर तेजधार हथियार से वार किए गए थे। शिनाख्त छुपाने के लिए मृतक के मुंह पर कई वार किए गए थे। 

 dead body

परिजनों ने की मृतक की पहचान
परिजनों ने कपड़ों से मृतक की पहचान की थी। शव के कुछ दूरी पर एक इनोवा कार लावारिस हालत में मिली थी। जो कि बिक्कमपुर निवासी रवि की थी। जो मृतक का दोस्त बताया जा रहा था। जबकि मृतक की कार लावारिस हालत में अलीपुर पौंटी के पास मिली थी। 

गाड़ी का शीशा तोडऩे पर की थी हत्या 
पुलिस के मुताबिक रविंद्र व सतबीर दोनों ही मलकीत के दोस्त थे, जो उसके साथ रहते थे। मर्डर वाली रात के समय तीनों ही गांव बिक्कमपुर में ही थे। जहां पर गुस्से में मलकीत ने रवि की इनोवा कार का शीशा तोड़ दिए। इससे दोनों के बीच झगड़ा हुआ। इसका बदला लेने के लिए ही उन्होंने मलकीत  की हत्या करने की प्लानिंग बनाई और हत्या का अंजाम दिया और शव को सुल्तानपुर के खेतों में फेंक दिया। रवि की शीश टूटी कार गांव सुल्तानपुर में ही मलकीत के शव से कुछ दूरी पर मिली थी।  

तीन गोलियां मारकर की थी हत्या, फिर तलवार से काटा था शव
पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने पहले मलकीत उर्फ बंटी को तीन गोलियां मारी थी। गोली मारने के बाद उसे खेत में ले गए। वहां पर तलवार से उस पर सैकड़ों वार किए। मृतक की पहचान न हो आरोपियों ने उसके मुंह पर कई वार किए थे। हत्या के बाद दोनों गांव से फरार हो गए थे।

Posted By: Ravi Dhawan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस