पानीपत, जेएनएन। Pollution के कारण हालात बदतर हैं। 18 दिन से उद्योग बंद हैं। दो दिन के लिए स्कूल भी बंद कर दिए गए हैं। फिजां में जहर कम नहीं हो पा रहा। Air Quality Index मंगलवार को 700 तक पहुंच गया था। पानीपत पूरे देश में प्रदूषित शहरों में प्रथम स्थान पर आ गया था। बृहस्पतिवार सुबह नौ बजे एयर क्वालिटी इंडेक्स 494 रहा। 16 नवंबर से स्थिति में थोड़ा सुधार आने की संभावना है। प्रदूषण की गंभीरता को देखते हुए दो दिनों के लिए 12वीं तक के सभी स्कूलों सरकारी व निजी स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया गया। 

बीते सप्ताह भी प्रदूषण से दो दिन स्कूल बंद रहे। जहरीली हवा को देखते हुए ईपीसीए (इन्वायरमेंट प्रीवेंशन एंड कंट्रोल अथॉरिटी) ने 15 नवंबर तक उद्योगों को बंद रखने की समय सीमा बढ़ा दी है। पिछले आदेश में 14 नवंबर तक उद्योगों को बंद करने के निर्देश जारी किए गए थे। 

 बुधवार को दिन में कम स्मॉग की स्थिति रही। दोपहर को एयर क्वालिटी इंडेक्स 189 तक आ गया था, चार बजे एयर इंडेक्ट 221 दर्ज किया गया जो रात नौ बजे 408 पर पहुंच गया। बुधवार को अधिकतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 19 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। बुधवार को पीएम 2.5 का स्तर 189 रहा। पीएम 10 का स्तर 177 रहा। 

आंखों में जलन सांस लेने में परेशानी 

प्रदूषण स्तर बढऩे के कारण बुधवार को आंखों में जलन महसूस की गई। साथ सांस लेने में तकलीफ महसूस की गई। इन दिनों अस्थमा के मरीजों को अधिक परेशानी झेलनी पड़ रही है।

400 से ऊपर एयर क्वालिटी इंडेक्स खतरनाक 

एयर क्वालिटी इंडेक्स 0-50 अच्छी स्थिति, 51 से 100 संतोषजनक, 201 से 300 पूअर, 301 से 400 वेरी पूअर, 401 से 500 खतरनाक गिना जाता है। 

इन उद्योगों पर बंद के नियम नहीं लागू 

1. जो उद्योग पीएनजी पर हो चुके शिफ्ट 

2. कृषि आधारित ईंधन वाले उद्योग 

कृषि आधारित ईंधन वाले उद्योगों में ब्रेक्टस, सरसों की तूड़ी, चावल भूसी, पराली सहित दालों, चने आदि के अवशेष को ईंधन के रूप में प्रयोग करने वाले उद्योगों को चलाने की छूट मिली है। 

इन पर रहेगा प्रतिबंध 

1. कोयला बेस 

2. लकड़ी, उपले, कूड़़ा कर्कट जलाने वाले उद्योग

प्रशासन की नागरिकों से अपील

-नाक पर मास्क जरूर लगाएं 

- लोग घर से बाहर न निकलें।

-जरूरत पडऩे पर ही बाहर जाएं। 

-वाहन चलाने से भी परहेज करें। 

-जरूरी होने पर वाहन चलाएं। 

15 नवंबर तक उद्योगों पर प्रतिबंध बढ़ाया गया है। पीएनजी व एग्रो आधारित ईंधन जलाने वाले उद्योग व पावर प्लांट इससे बाहर हैं। 

संदीप सिंह, क्षेत्रीय अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड 

पानीपत में प्रदूषण की गंभीरता को देखते हुए स्कूल बंद करने के आदेश दिए गए हैं। इस आदेश दृढ़ता से पालना सुनिश्चित करने को कहा गया है। स्कूल संचालक इस आदेश की अवहेलना करेंगे तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।  

सुमेधा कटारिया, डीसी पानीपत।

 

Posted By: Anurag Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप