पानीपत, [विजय गाहल्याण]। अपराधियों पर अंकुश लगाने और ट्रैफिक नियमों को तोडऩे वाले वाहन चालकों की पहचान के लिए शहर में करनाल की तर्ज पर सीसीटीवी कैमरे लगेंगे। पुलिस ने करनाल से कैमरों का प्रपोजल मंगवाया है। इसी के अनुरूप शहर का भी प्रपोजल बनाया जाएगा। प्रयास रहेगा कि सांसद या शहरी विधायक फंड से कैमरे लगाए जाएं। अन्यथा पुलिस विभाग प्रपोजल को डीजीपी को भेजेगा। वहां से प्रदेश सरकार को प्रपोजल भेजा जाएगा।

दैनिक जागरण ने 17 मार्च के अंक में बढ़ रही वारदातें, नहीं लग रहे सीसीटीवी, आर्डर के बाद भी काम ठप और 18 मार्च को हत्यारोपितों की तलाश में धुंधली तस्वीर लेकर घूम रही पुलिस शीर्षक से खबर प्रमुखता से प्रकाशित की। इसमें बताया गया कि शहर में सीसीटीवी जरूरी हैं। दुकानों व बैंक में लगे कैमरों से पुलिस ने हत्याकांड की गुत्थी सुलझाई थी। इसके बाद से पुलिस विभाग हरकत में आया है। 

कहां कितने कैमरे लगेंगे   

स्थान                   कैमरे

असंध नाका               4

रामलाल चौक              6

आठ मरला चौक            4

देशवाल चौक               4

लालबत्ती चौक               5

एनएफएल नाका              4

बबैल नाका                 4  

साई बाबा चौक              6

छोटूराम चौक                3़

भीम गौड़ा मंदिर              2

ऊझा रोड                  3

कुटानी रोड नाला             2

मित्तल मेगा माल             4

सब्जी मंडी सनौली रोड        4

भैंसवाल चौक               3

देवी मंदिर चौक              3

सज्जन चौक सेक्टर-25         3

बरसत रोड चुंगी              4

नूरवाला टी प्वाइंट बसरत रोड     3

सिवाह छाजपुर रोड            4

सेक्टर-29                   3

अनाज मंडी कट              5

मलिक पेट्रोल पंप              2

सेक्टर 11-12 यू टर्न           5

गोहाना रोड चौक              5

संजय चौक                  4

रेलवे रोड यू टर्न              4

लालबत्ती                    4

बस स्टैंड                   5

रंजन चौक                  6

यमुना एनक्लेव               6

देवी लाल पार्क               2

सत्संग भवन टोल प्लाजा        3

ओइओसीएल चौक जीडी रोड     5

खोतपुर कट जीटी रोड          3

थाना चांदनी बाग चौक          4

                         

करनाल में लगे इतने कैमरे

करनाल शहर में नगर निगम ने 2018 में 27 जगहों पर 129 सीसीटीवी कैमरे लगवा रखे हैं। पुलिस के अनुसार कैमरों की वजह से कई बड़ी आपराधिक वारदातों की गुत्थी सुलझी हैं। जहां पर कैमरे लगे हैं वहां पर आपराधिक वारदात भी कम हुई हैं। 

कब क्या हुआ 

-2018 में 12 करोड़ की लागत से 143 सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने का प्रपोजल बना। नगर निगम योजना को सिरे नहीं चढ़ा पाया। 

-19 दिसंबर 2019 में सेक्टर 11 में सीसीटीवी कैमरे लगवाने का काम शुरू किया गया। बाद में रोक दिया गया। 

-2019 में पुलिस विभाग द्वारा फ्लाईओवर के नीचे 16 सीसीटीवी कैमरे लगवाए थे। कैमरे बंद पड़े हैं। 

-2019 में रोहतक मॉडल को अपनाकर लघु सचिवालय के पास जीटी रोड पर पुलिस ने सीसीटीवी कैमरा लगवाया। अन्य जगह कैमरे नहीं लगे। 

-2019 में पुलिस ने यमुना एन्क्लेव के पास सीसीटीवी कैमरा लगवाया। इसका प्रयोग चालान काटने में हो रहा है। 

शहर में सीसीटीवी कैमरे लगवाए जाने हैं। इसके लिए करनाल में सीसीटीवी कैमरे की कार्यप्रणाली जांची जा रही है। इसी के मुताबिक प्रपोजल तैयार किया जाएगा। कैमरे सांसद व विधायक का फंड से लगवाने का प्रयास है। अगर उनका इतना फंड नहीं हीं है तो फिर डीजीपी को प्रपोजल भेजा जाएगा। 

सतीश कुमार वत्स, डीएसपी मुख्यालय।

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस