अंबाला, जेएनएन। कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमितों की टूटती सांस में जान फूंकने वाली रेमडेसिविर इंजेक्शन की मांग के बीच छावनी पुलिस ने 20 अप्रैल को रात्रि क‌र्फ्यू के दौरान 24 इंजेक्शन बरामद किए। पुलिस के हाथ लगे हिट्रो कंपनी के रेमडेसिविर इंजेक्शन को कनाडा में बैठे अभिषेक ने अपने दोस्त गोपाल के चिकित्सकों के परामर्श पर अर्रेंज कराया था। हालांकि चिकित्सकों ने गोपाल के लिए सिर्फ चार इंजेक्शन की ही डिमांड की थी, लेकिन गोपाल के नाम बरामद 24 इंजेक्शन में 20 किसके लिए खरीदी गई थी, इसकी जांच करने में पुलिस जुटी है। ------------ डिफेंस कालोनी में दो दिन रखे थे इंजेक्शन छावनी के डिफेंस कालोनी निवासी कैलाश के पास दो दिनों तक रेमडेसिविर इंजेक्शन रखे थे। इंजेक्शन को लेकर दिल्ली ले जाने के लिए कार में सवार होकर आए लोग रात करीब 10 बजे दवा को दिल्ली पहुंचाने की फिराक में थे, अभी वह फुटबाल चौक पर पहुंचे थे कि पुलिस ने रात्रि क‌र्फ्यू में निकलने के बारे में जानकारी के लिए रोक लिया। पूछताछ में खुलासा हुआ कि वह दिल्ली में कोरोना का इलाज कराने के लिए भर्ती गोपाल के लिए दवा लेने के लिए आए थे। यह सुनते ही पुलिस ने दावा को कब्जे में लेकर जांच को आगे बढ़ा दिया। ---------------- इंजेक्शन रिसीव करने अंबाला आए थे दो लोग कनाडा में बैठे अभिषेक को जब यह जानकारी हो गई कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की खेप छावनी के डिफेंस कालोनी में पहुंच चुकी है तो उसने तुरंत दिल्ली में गोपाल के करीबी दोस्तों से संपर्क किया और कहा कि वह अंबाला जाकर ले आओ। इस पर दिल्ली से दीपक और कर्ण जुनेजा क्विड कार में सवार होकर अंबाला इंजेक्शन लेने के लिए पहुंच गए। ----------------- हरियाणा में दो रेमडेसिविर के लिए अधिकृत हरियाणा सरकार ने कोरोना संक्रमितों के लिए चिकित्सक की सलाह पर दो कंपनियों की रेमडेसिविर इंजेक्शन का इस्तेमाल करने के लिए अधिकृत किया है। इसमें एक हिट्रो कंपनी और दूसरी सिफला है। हिट्रो कंपनी का सी एंड एफ प्रभु प्रेम नगर और सिफला का मेहड़ा के निकट आफिस के साथ गोदाम है। अब स्वास्थ्य विभाग ने इन दोनों कंपनियों से रेमडेसिविर इंजेक्शन की आपूर्ति और बिक्री से संबंधित सभी रिकार्ड मांगे हैं। ------------------- पुलिस मधुवन भेजने की तैयारी में, सीएमओ बोले लैब भेज दिए इंजेक्शन 20 अप्रैल की रात छावनी के फुटबाल चौक से बरामद इंजेक्शन की लैब से जांच कराने को लेकर सिविल सर्जन और पुलिस के अलग अलग बयान सामने आए हैं। सीएमओ ने कहा कि इंजेक्शन असली है या नकली इसकी जांच के लिए लैब भेज दिया गया है, लेकिन कैंट एसएचओ विजय कुमार अभी पुलिस विभाग के मधुवन स्थित प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजने की तैयारी करने की बात कही।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप