पानीपत, जागरण संवाददाता। शोले फिल्म याद होगी आपको। बसंती यानी हेमा मालिनी के लिए धर्मेंद्र टंकी पर चढ़ गए थे। पानीपत में शोले जैसी कहानी तो नहीं, लेकिन अजीब वाकया जरूर सामने आया। एक सांड पानी की टंकी पर चढ़ गया। सीढ़ियों के रास्ते चढ़ता-चढ़ता सबसे ऊपर ही पहुंच गया। सुबह गांव वालों ने देखा तो हैरान रह गए। सांड को चार घंटे की मशक्कत के बाद नीचे उतारा जा सका।

पानीपत के छाजपुर खुर्द स्थित पानी की टंकी पर सांड चढ़ गया। सांड जब सीढ़ियों पर चढ़ा तो वापस नहीं आ सका। ऊपर ही चलता गया। ऊपर जाकर रास्ता खत्म हुआ तो वह छज्जे पर खड़ा हो गया। नीचे से लोगों ने देखा तो अचंभित हो गए। ग्रामीण एकत्र हो गए। सूचना पाकर पुलिस भी पहुंचीं। एएसपी पूजा वशिष्ठ भी पहुंची। पब्लिक हेल्थ विभाग से क्षेत्र के एसडीओ सूबे सिंह, बीडीपीओ पूनम चंदा, पंचायत अधिकारी प्रमोद शर्मा, सनौली खुर्द थाना प्रभारी रामनिवास, ट्यूबवेल आपरेटर यूनियन के ब्लाक प्रधान महाबीर कपूर, हिंदु युवा वाहिनी जिला अध्यक्ष विक्की मलिक सांड को नीचे उतारने में जुट गए। काफी मुश्किल से सांड को सीढ़ियों से ही नीचे लाया गया।

जान का खतरा था

सांड के साथ ही आम लोगों की भी जान को खतरा था। ऊपर जाकर सांड को नीचे उतारने की कोशिश करते तो सांड उन्हें कुचल सकता था। अगर सांड ऊपर से नीचे गिरता तो उसकी जान जा सकती थी।

सनौली में पहले भी चढ़ चुका

सनौली में पहले भी सांड इस तरह टंकी पर चढ़ चुका है। सांड चारे की तलाश में सीढ़ियों पर चढ़ता गया था। सबसे ऊपर पहुंच गया। गोभक्तों ने तब रस्सी के सहारे सांड को नीचे उतारा था। इस दौरान सांड चोटिल भी हो गया। टंकी का छज्जा भी टूट गया था। सांड को टंकी पर चढ़ा देख आसपास के लोग भी देखने पहुंच गए। मोबाइल फोन से वीडियो बनाने लगे। सांड जब नीचे आया तो लोगों ने राहत की सांस ली।

Edited By: Rajesh Kumar