जागरण संवाददाता, पानीपत : किसान से रिश्वत लेने के आरोपित जिला उद्यान अधिकारी महावीर शर्मा को विजिलेंस ने अदालत में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। इस दौरान महावीर शर्मा के शिकन नहीं थी। इसे देख विजिलेंस टीम भी हैरत में थी।

बता दें कि पत्थरगढ़ गांव के किसान तनवीर ने शुक्रवार दोपहर को विजिलेंस को शिकायत दी कि जिला उद्यान अधिकारी महावीर शर्मा सब्सिडी अप्रूव करने की एवज में 30 हजार रुपये की रिश्वत मांग रहा है। इसके बाद विजिलेंस टीम किसान के साथ नई अनाज मंडी स्थित उद्यान विभाग के कार्यालय में पहुंची और जिला उद्यान अधिकारी महावीर शर्मा को 30 हजार रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया।

आरोपित के घर पर शीशे का काम किया था, उसी को लेकर किया था विश्वास

विजिलेंस इंस्पेक्टर सुमित कुमार ने बताया कि किसान तनवीर पहले महावीर शर्मा के मकान में शीशे का काम कर चुका था। इसी वजह से वह उस पर विश्वास करता था। सब्जी की बेल वाली फसलों के लिए खेत में बांस के जाल लगाने पर प्रदेश सरकार की ओर से प्रति एकड़ करीब 40 हजार रुपये की सब्सिडी दी जाती है। जिला उद्यान विभाग यह राशि जारी करता है। तनवीर ने दो एकड़ में जाल लगाया था। उसकी करीब 80 हजार रुपये सब्सिडी बनती थी। सब्सिडी पाने के लिए करीब ढ़ाई माह पहले किसान ने फाइल जमा कराई थी। लेकिन जिला उद्यान अधिकारी महावीर शर्मा सब्सिडी अप्रूव करने की एवज में एडवांस में उससे 30 हजार रुपये की मांग कर रहा था। किसान कार्यालय के कई चक्कर लगा चुका था। लेकिन सुनवाई नहीं की।

Edited By: Jagran