पूंडरी (कैथल), संवाद सहयोगी। कैथल के गांव मोहना में मां-बेटी के दोहरे हत्याकांड के मामले में ग्रामीणों का शक सही निकला। पहले दिन से मृतकों के परिवार के लोग और ग्रामीण चीख-चीख कर कह रहे थे कि इस हत्याकांड के पीछे दर्शन लाल नाम के युवक का हाथ है। इस मामले में पकड़े गए हत्यारोपित त्रिपुरा के अगरतला के गांव उत्तरफुलवाड़ी निवासी इस्माइल अली उर्फ राजू ने पुलिस रिमांड के दौरान कबूल कर लिया है कि गीता और उसके दोनों बच्चों स्मृति व सूक्ष्म की हत्या के लिए दर्शन ने उसे 30 हजार रुपये देने की बात कही थी।

दर्शन गीता के पति विक्रम के चाचा का बेटा है। विक्रम की आठ माह पहले हार्ट अटैक से मौत हो गई थी। दर्शन का इस परिवार से लंबे समय से जमीनी विवाद चल रहा था। इसी के चलते उसने पूरे परिवार को खत्म करने की साजिश रची। एसपी लोकेंद्र सिंह ने बताया कि 25 वर्षीय दर्शन को रविवार को अदालत में पेश किया जाएगा। पूछताछ के दौरान इस्माइल अली बार-बार बयान बदल रहा था, लेकिन सख्ती से पूछने पर उसने दर्शन की भूमिका स्पष्ट कर दी।

दूसरे दिन भी ग्रामीण पहुंचे पूंडरी

इससे पहले शनिवार को गांव मोहना में 14 अक्टूबर की रात हुई मां-बेटी के निर्मम हत्या को लेकर ग्रामीणों ने हरियाणा पर्यटन निगम के चेयरमैन रणधीर गोलन से मुलाकात कर मुख्य दोषियों को गिरफ्तार करवाने की मांग की। जिस पर चेयरमैन गोलन ने ग्रामीणों ने मृतका के परिजनों का आश्वासन दिया कि गुनाहगार को किसी कीमत पर भी बख्शा नहीं जाएगा। ग्रामीणों का साफ तौर पर कहना था कि इस हत्याकांड के असली आरोपित खुले घूम रहे हैं। जिस नौकर को पकड़ कर पुलिस अपनी पीठ थपथपा रही है वो तो इस साजिश का एक मोहरा मात्र है। पुलिस जांच पर सवाल उठाते हुए ग्रामीणों ने कहा कि असली दोषी और साजिशकर्ता तो दूसरे हैं, जिन्हें पुलिस की अभी तक की कार्रवाई में हाशिए पर रखा गया है। ग्रामीणों ने कहा कि पूरे गांव का पता है कि ये हत्याएं लूटपाट के इरादे से नहीं, बल्कि जमीनी विवाद को लेकर की गई है। जिसको लेकर मृतक का परिवार के अन्य लोगों से पहले भी झगड़ा चल रहा था।

पुलिस के खिलाफ किया प्रदर्शन

पुलिस की कार्रवाई से असंतुष्ट ग्रामीण सुबह लगभग 10 बजे गांव में ही एकत्रित होना शुरू हो गए। उन्होंने पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और कुछ देर के लिए वे कैथल-करनाल मार्ग पर भी आ गए थे। इसके बाद ग्रामीण इस मामले को लेकर पूंडरी में विधायक रणधीर गोलन व एसपी से मिलने की बात कहते हुए पूंडरी पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस पहुंच गए। जहां पर उन्होंने विधायक गोलन से बात की। सूचना मिलने पर एसएचओ पूंडरी निर्मल सिंह भी मौके पर पहुंच गए और उन्होंने भी ग्रामीणों को पूरी तरह निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया। विधायक गोलन ने भी ग्रामीणों को कहा कि दोषी कोई भी और कितना भी ताकतवर क्यों न हो, बच नहीं पाएगा। इसके लिए वे ग्रामीणों के साथ खड़े हैं। इस मामले को लेकर उन्होंने एसपी लोकेंद्र सिंह से बात की है और एसपी ने उन्हें एक-दो दिन में ही निष्पक्ष जांच का भरोसा दिया। ग्रामीण पुलिस को दो दिन का समय देते हुए वापिस गांव लौट गए लेकिन दो दिन बाद मुख्य मार्ग जाम करने की चेतावनी भी दे गए।

Edited By: Anurag Shukla