जागरण संवाददाता, पानीपत: नगर निगम ने 1.79 करोड़ रुपये का हाउस टैक्स नहीं चुकाने पर मंगलवार को पुलिस बल के साथ सेक्टर 11 स्थित प्राइम एंजल मॉल को सील कर दिया। इस मॉल के भीतर पीके सिनेमा रेंज के तीन थियेटर व 11 दुकानें भी सील की गई हैं। सिनेमा में फिल्मों का प्रदर्शन बंद हो गया। इस सीलिंग का सिनेमा के मैनेजर और दुकानदारों ने विरोध जताया लेकिन पुलिस बल के सामने उनकी एक नहीं चली। वहीं पूर्व मेयर भूपेंद्र सिंह और पूर्व जिला पार्षद जोगेंद्र स्वामी ने प्रशासन की कार्रवाई को ड्रामा बताया है।

नगर निगम की ओर एंजल प्राइम मॉल की तरफ 1.79 करोड़ हाउस टैक्स बकाया था। टैक्स जमा कराने के लिए एंजल मॉल प्रशासन को नोटिस जारी किए गए थे लेकिन मॉल प्रशासन ने किसी भी नोटिस का किसी भी तरह से जवाब नहीं दिया। इस संबंध में नगर निगम के आयुक्त ने डीसी डॉ. चंद्रशेखर खरे को एंजल प्राइम मॉल के द्वारा गृह कर नहीं दिए जाने के संबंध में जानकारी देकर कार्रवाई की अपील की थी। डीसी डॉ. ने नियम के तहत निगम आयुक्त को कार्रवाई के निर्देश दिए।

इसी के तहत ड्यूटी मजिस्ट्रेट शुगर मिल के एमडी बीर सिंह, नगर निगम की संयुक्त आयुक्त सुनीता भानखड़, ईओ हरदीप सिंह और हुडा के ईओ दीपक घनघस पुलिस बल के साथ एंजल पहुंचे। मौके पर पीके सिनेमा की सीटों और टायलेट की तलाशी ली। दुकानदारों को दुकानों से सामान बाहर निकालने के लिए कहा गया। वे हक्के-बक्के रह गए गए और शाम तक कार्रवाई न करने की अपील की। ड्यूटी मजिस्ट्रेट शुगर मिल के एमडी बीर सिंह ने डीसी डॉ. चंद्रशेखर खरे के आर्डर दिखाते हुए सहयोग करने में असमर्थता जताई। इसके बाद सीलिंग कार्रवाई पूरी कर ली गई।

दुकानों को सील करके की खानापूर्ति : भूपेंद्र

पूर्व मेयर भूपेंद्र सिंह ने कहा कि एंजल मॉल की तरफ 15 करोड़ रुपये का हाउस टैक्स बकाया था। प्रशासनिक अधिकारियों ने मॉल मालिक के साथ साठ-गांठ कर टैक्स महज 1.79 करोड़ बताकर दुकानों को सील करके खानापूर्ति कर ली है। आम लोगों की दुकानों को सील करना सही नहीं है। वहीं पूर्व जिला पार्षद जोगेंद्र स्वामी ने दावा किया कि प्राइम मॉल का बैंक्वेट हाल अवैध रूप से बनाया गया है। इसे प्रशासन ने तुड़वाना चाहिए था। दुकानों को सील करने से कोई फायदा नहीं है। दुकानदार टैक्स भर देंगे तो तुरंत ही सील हट जाएगी।

दुकानदार टैक्स भरे जाने की दिखाते रहे रसीद, नहीं हुई सुनवाई

दुकानदारों ने सीलिंग रोकने के लिए भरसक प्रयास किया गया लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई। दुकानदार बालकृष्ण और सुनील हुड़िया भरे जा चुके प्रॉपर्टी टैक्स की रसीद दिखाते रहे, लेकिन अधिकारियों ने उनकी एक नहीं सुनी। किराए पर लेकर दुकान चला रहे शैंकी ने कहा कि प्रशासन द्वारा कार्रवाई ठीक नहीं है।

ठेका व दो दुकानों को नहीं किया सील

एंजल मॉल में एक शराब के ठेके, नत्थू स्वीट्स और चश्मे की दुकान को सील नहीं किया गया है। नगर निगम अधिकारियों का कहना है कि इन दुकानों के मालिकों ने हाउस टैक्स जमा करवा रखा है। इसी कारण से सीलिंग नहीं की गई है।

2010 से ही दुकानों की बिक्री शुरू कर दी थी

नगर निगम के ईओ हरदीप ने बताया कि एंजल मॉल के मालिक अभय प्रकाश ने 2010 से ही दुकानों की बिक्री शुरू कर दी थी। 2011-12 और 13 से 15 तक दुकानों को बेचा गया है। इन्हीं दुकानों का नगर निगम निगम का हाउस टैक्स बकाया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस