-एसएचओ ने कॉलेज से निकलते ही तुड़वाया गेट पर लगा ताला

-प्रत्यक्ष छात्र संघर्ष समिति का भी राजकीय कॉलेज के गेट पर जोरदार प्रदर्शन

जागरण संवाददाता, पानीपत : छात्र संघ के चुनाव अप्रत्यक्ष चुनाव और शर्तों पर चौतरफा हंगामा मचा हुआ है। भाजपा के छात्र संगठन एबीवीपी ने शर्तों को गलत बताते हुए आर्य कॉलेज के गेट पर ताला जड़ दिया। इसके बाद करीब तीन घंटे तक जोरदार प्रदर्शन किया। थाना शहर प्रभारी ने कॉलेज से बाहर निकलते ही गेट पर लगाया ताला तुड़वा दिया। उन्होंने छात्र नेताओं को शांति बरतते हुए अपनी बात रखने की अपील की। वहीं, इनसो समेत अन्य कई छात्र संगठनों ने देशबंधु गुप्ता राजकीय कॉलेज के गेट पर अप्रत्यक्ष चुनाव कराने के विरोध में सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के बैनर तले छात्र नेता शनिवार सुबह आर्य कॉलेज के मुख्य गेट पर पहुंचे। उन्होंने सरकार और कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। थाना शहर प्रभारी विक्रांत सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे। वे सीधे कॉलेज प्राचार्य डॉ. जगदीश गुप्ता से बातचीत करने उनके कार्यालय में चले गए। इसी दौरान, छात्र नेताओं ने कॉलेज के मुख्य गेट पर ताला जड़ दिया। एसएचओ ने अंदर से ताला खुलवाने का प्रयास किया, लेकिन छात्र नेता ताला खोलने को राजी नहीं हुए। इस पर कॉलेज का बड़ा गेट खुलवाकर एसएचओ बाहर आए और छात्र नेताओं को हड़काना शुरू कर दिया।

सत्यापन की शर्त से नाराजगी

एबीवीपी के विभाग सह संयोजक सुमित जागलान और छात्र नेता यशबीर गौतम ने कहा कि भाजपा सरकार ने 22 साल बाद छात्र संघ के चुनाव बहाल किए हैं, लेकिन कॉलेज प्रबंधन मनमर्जी के नियम लागू कर नामांकन में अड़चनें पैदा कर रहा है। छात्र नेताओं का कहना है कि पांच घंटे पहले ही उन्हें नामांकन के शर्तो की जानकारी दी गई। उन्होंने इतने कम समय में डॉक्यूमेंट पूरे किए, लेकिन क्लास वन अधिकारी से सत्यापन का हवाला देकर नामांकन स्वीकार नहीं किया गया। छात्र नेताओं का कहना है कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय ने सत्यापन कराने संबंधी कोई नियम नहीं लगाया है। इनसो समेत कई छात्र संगठन आए एक बैनर तले

इनसो समेत कई छात्र संगठन अप्रत्यक्ष चुनाव के विरुद्ध एक मंच के नीचे आ गए। इन्होंने देशबंधु गुप्ता राजकीय कॉलेज के गेट पर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। कॉलेज की कक्षाएं भी इससे प्रभावित रहीं। योगी शर्मा, आशु, सुमित मलिक और अंकित रिसालू ने कहा कि कई प्रदेशों में प्रत्यक्ष छात्र संघ चुनाव बहाल है, लेकिन प्रदेश में अप्रत्यक्ष चुनाव कराए जा रहे हैं। यह सरकार का तुगलकी फरमान है और वे अपने संगठन एबीवीपी को छात्र संघ चुनाव में आगे लाना चाहते हैं। इस अवसर पर एसएफआई से आशु रानी, इनसो से सुमित मलिक, योगी शर्मा, एनएसयूआई से अंकित रिसालू, राजेश, कपिल शर्मा, प्रिया भावा, ओम और चिना कुटानी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran